ब्रिटेन में पद्मावती को मंजूरी से भंसाली क्यों भड़के? जानिए यहां

पद्मावती , पद्मावती पर विवाद, रणवीर सिंह, दीपिका पादुकोण, संजय लीला भंसाली, padmavati, padmavati controversy, satire, sanjay leela bhansali, uk-censor-board, hindi jokes

मुंबई/लंदन। ब्रिटेन के सेंसर बोर्ड ने संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती को अपने देश में दिखाने की मंजूरी दे दी है। हालांकि भंसाली ने यह कहते हुए उसका प्रदर्शन पोस्पॉन कर दिया है कि जब तब करनी सेना की ब्रिटिश विंग फिल्म का विरोध नहीं करेगी, तब तक वे रील की एक भी पेटी ब्रिटेन नहीं भेजेंगे।

रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण स्टारर पद्मावती फिल्म को लेकर हो रहे विवाद के कारण भारत में इसकी रिलीज डेट आगे बढ़ा दी गई है। लेकिन The British Board of Film Classification (BBFC) ने एक भी कट लगाए बगैर इसे पास कर दिया। ब्रिटिश बोर्ड ने यहां तक कह दिया कि इसे ब्रिटेन की जनता के लिए एक दिसंबर को रिलीज किया जा सकता है।

‘पद्मावती’ का विरोध न होने पर भड़के भंसाली…

बगैर किसी विवाद के ब्रिटेन में पद्मावती फिल्म के लिए रास्ता साफ हो जाने से भंसाली भड़क गए हैं। उन्होंने BBFC के एक सदस्य से कहा, “जब तक फिल्म को लेकर कंट्रोवर्सी नहीं होती, हम इसे कहीं रिलीज नहीं कर सकते। आपको तो फिल्म देखने-दिखाने की जल्दी है, लेकिन इससे हमको क्या मिलेगा? घंटा?’

उन्होंने करनी सेना की ब्रिटिश विंग को भी वाट्सऐप करते हुए कहा, “ अबे स्सालो, इंडिया में तो तुम खूब उछल रहे हों। यहां तुम्हारे गुर्दों को क्या ठंड लग गई है? दो-चार पोस्टर ही फाड़ दो। बोलो, कल कहां भिजवा दूं?”

करनी सेना की ब्रिटिश विंग के एक पदाधिकारी ने वाट्सऐप पर ही जवाब दिया, “अबे हमें क्या अनपढ़ समझ रखा? और ये स्साला-स्साला क्या लगा रखा है। तमीज से बात कर, नहीं तो हम फिलम के सपोर्ट में इतनी बड़ी रैली निकालकर ऐसी तारीफ करेंगे कि एक भी आदमी देखने नहीं जाएगा।”

इस बीच, भंसाली पद्मावती मूवी के पोस्टर फाड़ने या जलाने वालों की तलाश में लगातार फोन घुमाए जा रहे थे, लेकिन अंतिम समाचार मिलने तक ब्रिटेन में उन्हें भाड़े पर भी एक भी आदमी ऐसा नहीं मिल पाया था जो यह काम कर सके।

(By A. Jayjeet)

(Disclaimer : यह खबर कपोल-कल्पित है। इसका मकसद केवल स्वस्थ मनोरंजन और हास्य-व्यंग्य-Satire करना है, किसी की मानहानि करना नहीं।)

पद्मावती से संबंधित यह खबर भी पढ़ें…

… तो आप भी कहते, काश महंगाई के इस दौर में खिलजी होता!