व्यंग्य कथा : मॉब लिंचिंग से बच गया, स्साला…

मॉब-लिंचिंग , राजनीतिक व्यंग्य, लघु व्यंग्य, कटाक्ष

उस हॉल में देशभक्त लोग मुट्ठियां भींचकर भारत मां के जयकारे लगाने को तैयार बैठे थे…

तभी एक देशद्रोही उठा और पता नहीं क्यों बोला – पहला नारा वही लगाएगा जिसने कभी करप्शन नहीं किया, कमीशन नहीं खाया, टैक्स नहीं चुराया, वगैरह-वगैरह…

दो मिनट में हॉल खाली हो गया। इस मामले में तो सभी देशभक्त ईमानदार निकले .. 👏👏

देशद्रोही फिर उठा और धीरे से बोला- भारत जिंदाबाद और फिर तेजी से गायब हो गया…

मॉब लिंचिंग से बच गया, स्साला…