राम बनने की प्रेरणा (सुरेंद्र शर्मा)

  • सुरेंद्र शर्मा

‘पत्नी जी!
मैं छोरा नैं राम बनने की प्रेरणा दे रियो ऊँ
कैसो अच्छो काम कर रियो ऊँ!’
वा बोली-‘मैं जाणूँ हूँ थैं छोरा नैं
राम क्यूँ बणाणा चाहो हो
अइयां दसरथ बणकै तीन घरआली लाणा चाहो हो!’

यह भी पढ़ें …
पति-पत्नी नोक-झोंक