क्या शादीशुदा पुरुष भी पहनें मंगलसूत्र? नहीं, पतियों के ये 7 लक्षण ही काफी हैं…

शादीशुदा पुरुष, पतियों पर जोक्स, पति-पत्नी जोक्स, husband-wife jokes, hindi jokes, हिंदी जोक्स, हास्य-व्यंग्य, satire, jokes on husband, husband-wife jokes in hindi, फनी पिक्स, funny pics

हिंदी सटायर डेस्क। शादीशुदा महिलाओं को मंगलसूत्र पहनना पड़ता है और उसी से माना जाता है कि कोई महिला मैरिड है। इस पर शादीशुदा महिलाओं के संघ ने भारतीय समाज पर भेदभाव की नीति अपनाने का आरोप लगाते हुए सुपरीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की थी। इस याचिका में मांग की गई थी कि शादीशुदा पुरुषों के लिए भी कुछ ऐसे ही प्रतीक चिह्न होने चाहिए जिनसे उनकी पहचान आसानी से की जा सके। कोर्ट ने इस पर भारतीय समाज (जिसने इस तरह के नियम बनाए) को नोटिस जारी किया था। इस नोटिस के जवाब में भारतीय समाज ने पतियों के कुछ सिम्पटम्स पेश किए थे। इन्हें सुनने के बाद कोर्ट ने उन पर सहमति जताते हुए मामले का निस्तारण कर दिया।

भारतीय समाज की ओर से पेश वकील, जो खुद भी शादीशुदा था, की दलील थी कि पति के लिए मंगलसूत्र जैसी किसी प्रतीकात्मक चीज की जरूरत कतई नहीं है। अगर यहां पेश किए जा रहे लक्षणों पर ध्यान दें तो किसी भी शादीशुदा पुरुष यानी पति को आसानी से पहचाना जा सकता है। वकील ने कोर्ट में शादीशुदा पुरुषों के 7 लक्षण बताए थे जो इस तरह हैं :

1. शादीशुदा पुरुष हमेशा दबी हुई आवाज में बात करता है, भले ही सामने पत्नी हो या न हो।

2. शादीशुदा पुरुष के कंधे हमेशा थोड़े-से झुके होते हैं। बाल भी कम होते जाते हैं।

3. शादीशुदा पुरुष के हाथ में अक्सर सब्जी का झोला होता है। बाइक के हैंडल पर टिफिन बॉक्स लटका पाया जाता है।

4. शादीशुदा पुरुष (घर से) फोन आने पर मित्र-मंडली की टोली से हटकर बात करता है। फोन पर अक्सर ‘जी जी’ करता पाया जाता है। कॉल काटने की भी जल्दी होती है।

5. शादीशुदा पुरुष गर्लफ्रेंड के साथ घूमते लड़कों को बहुत ही क्रूर दृष्टि और ईष्र्या भाव से देखता है।

6. शहर में जैसे ही किसी सेल की खबर आती है, शादीशुदा पुरुष का बीपी बढ़ जाता है।

7. शादीशुदा पुरुष काम करते-करते दो डेस्क आगे वाली मिस सीमा/मिस आरती इत्यादि को गलती से ‘अजी सुनती हो’ कहकर भी बुला देता है।

(Note : कंटेंट के आइडिया की उठाईगिरी सोशल मीडिया से की गई है। लिखने का स्टाइल हिंदी सटायर का अपना है।)

(Disclaimer : यह खबर कपोल-कल्पित है। इसका मकसद केवल स्वस्थ मनोरंजन और हास्य-व्यंग्य-satire पैदा करना है, किसी की मानहानि करना नहीं।)