सटीक भविष्यवाणियों के लिए मौसम विभाग में नियुक्त होंगे ज्योतिषि

मौसम , पैरट एस्ट्रोलॉजी, मौसम की भविष्यवाणी, ज्योतिष

हिंदी सटायर डेस्क, नई दिल्ली/पुणे। सरकार ने मौसम संबंधी भविष्यवाणियों को और भी सटीक बनाने के लिए भारतीय मौसम विभाग में ज्योतिषियों को नियुक्त करने का फैसला किया है। इससे मौसम संबंधी अनुमान गलत होने पर भी कोई मौसम विभाग पर अंगुली नहीं उठा सकेगा। वैसे मौसम विभाग जो भविष्यवाणियां कर रहा है, वह उतनी ही सच हो रही हैं, जितनी कि ज्योतिषियों द्वारा की गई भविष्यवाणियां।

इस संबंध में पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, जिसके अंतर्गत मौसम विभाग आता है, ने प्रधानमंत्री कार्यालय को एक प्रस्ताव भेजा है। इस प्रस्ताव के अनुसार मौसम विभाग के डायरेक्टर के अलावा प्रमुख सलाहकार और दस अन्य पदों पर वरिष्ठ ज्योतिषियों को नियुक्त करने की अनुमति मांगी गई है। प्रमुख सलाहकार के तौर पर तो देश के जाने-माने ज्योतिषाचार्य जानदार विस्कीवाला का नाम भी प्रस्तावित कर दिया गया है। अब इसे मंजूरी के लिए कैबिनेट की अगली बैठक में पेश किया जाएगा।

बढ़ेगा मौसम विभाग पर भरोसा :
इस निर्णय के पीछे की वजह के बारे में मौसम विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘आम भारतीय लोग ज्योतिषियों की भविष्यवाणियों पर हद से ज्यादा भरोसा करते हैं। भविष्यवाणी गलत होने पर भी वे ज्योतिषियों को बेनिफिट ऑफ डाउट दे देते हैं। भारतीयों की परंपरा और संस्कृति उन्हें ज्योतिषियों के दावों पर सवाल उठाने की अनुमति नहीं देती है। मौसम विभाग में ज्योतिषियों की नियुक्ति होने से लोगों का मौसम विभाग पर भरोसा बढ़ेगा। ऐसे में अगर भविष्यवाणी गलत भी हो गई, तो उस समय कोई भी हम पर अंगुली नहीं उठा सकेगा।’

सैटेलाइट वापस बुलाए जाएंगे?
इस बीच, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि इस निर्णय का धरती की कक्षा में घूम रहे मौसम उपग्रहों पर फिलहाल कोई असर नहीं पड़ेगा। वे अगले आदेश तक धरती की परिक्रमा करके मौसम संबंधी आंकड़े और तस्वीरे भेजते रहेंगे। ज्योतिषियों की नियुक्ति होने पर उनसे परामर्श के बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा कि इन उपग्रहों को वापस धरती पर बुलाया जाएं या उन्हें खेलने के लिए एलियन्स के बच्चों को गिफ्ट कर दिया जाए। गौरतलब है कि इस समय धरती की कक्षा में इनसेट 3-डी सहित कुछ अन्य उपग्रह भी मौसम संबंधी आंकड़े भेज रहे हैं।

(Disclaimer : यह खबर कपोल-कल्पित है। इसका मकसद केवल स्वस्थ मनोरंजन और व्यवस्था पर कटाक्ष करना है, किसी की मानहानि करना नहीं। )