More

More

सुधीर त्यागी , sudhir tyagi , नाग पंचमी , nag panchami, चंदन चाचा के बाड़े में

‘चंदन चाचा के बाड़े में’ कविता के रचियता सुधीर त्यागी कौन थे?

'चंदन चाचा के बाड़े' में जैसी कालजयी कविता रचने वाले कवि सुधीर त्यागी के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। उनकी कोई दूसरी...
video

चंदन चाचा के बाड़े में … नागपंचमी पर कविता

नागपंचमी (Nag panchami) से संबंधित कविता चंदन चाचा के बाड़े में ...( chandan chacha ke bade me)। इसे मप्र के जबलपुर के कवि नर्मदा प्रसाद...

Satire : तक्षक की नागपंचमी पार्टी

By Jayjeet नागराज तक्षक बुढ़ा गए हैं, लेकिन नागपंचमी (nagpanchami) पर पार्टी करने का शौक गया नहीं। सदियों से वे यह मिल्क पार्टी थ्रो करते...
video

Rare Video : रवींद्ननाथ टैगोर की आवाज में जन-गण-मन का दुर्लभ वीडियो

National Anthem jan-gan-man sung by rabindranath tagore. गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की आवाज में सुनिए हमारा राष्ट्रगान जन-गण-मन... 
video

J.K. Rowling’s New Book – The Ickabog …. What’s in the book?

J.K. Rowling's New Book - The Ickabog .... What's in the book? Book Review by Urja ....
video

Book Review : Percy Jackson and the lightning thief | Rick Riordan

Book Review : Percy Jackson and the lightning thief written by Rick RiordanReview by Urja Aklecha
monsoon , monsoon facts, interesting monsoon facts,how to know Monsoon reached india, rainfall india, मानसून, मानसून के रोचक तथ्य, कैसे मानसून भारत पहुंचता है?video

Knowledge : कैसे पता चलता है कि देश में मानसून आ गया है?

लंबे इंतजार के बाद अंतत: मानसून (monsoon) ने केरल में दस्तक दे दी है। मौसम विभाग ने भी मानसून के भारत पहुंचने का एलान...
video

Knowledge Video : क्या था चंगेज खान का धर्म? मुस्लिम था या कोई और?

( Disclaimer : इस वीडियो में चंगेज खान के धर्म के बारे में इतिहासपरक जानकारी दी गई है। इसमें बताए गए फैक्ट्स की जवाबदेही...
video

Book Review : The Fault in our Stars/ John Green

Award winning book 'The fault in our stars' of John Green.This book is really very amazing.... Urja Aklecha
रंगरसिया-दोहे , काका हाथरसी के रंगरसिया दोहे , काका हाथरसी, kaka hathrasi vyangya, होली पर कविताएं, holi funny shayari, होली पोयम्स, होली पर फनी शायरी

काका हाथरसी के रंगरसिया दोहे

फागुन को लगने लगे, वैसाखी के पाँव इसीलिए पहुँचा नहीं, अब तक अपने गाँव।क्या वसंत का आगमन, क्या उल्लू का फाग अपनी किस्मत में लिखा, रात-रातभर...