Classics

Classics

शरद जोशी का लघु क्लासिक व्यंग्य ‘प्रगति के चरण’

शरद जोशी राजा भरत ने अपने राज्य की प्रगति की सालाना रिपोर्ट पढ़ते हुए कहा-"जैसा कि हमारा लक्ष्य था कि इस देश में दूध और...
शरद जोशी के व्यंग्य , satire of Sharad Joshi , funny image, gandhiji ka bandar, monkey, jokes on leaders

शरद जोशी का क्लासिक व्यंग्य ‘चौथा बंदर’

शरद जोशी एक बार कुछ पत्रकार और फोटोग्राफर गांधी जी के आश्रम में पहुंचे। वहां उन्होंने देखा कि गांधी जी के तीन बंदर हैं। एक...
harishankar-parsai हरिशंकर परसाई

हरिशंकर परसाई का लघु व्यंग्य ‘पुलिस-मंत्री का पुतला’

हरिशंकर परसाई एक राज्य में एक शहर के लोगों पर पुलिस-जुल्म हुआ तो लोगों ने तय किया कि पुलिस-मंत्री का पुतला जलाएंगे। पुतला बड़ा कद्दावर और...
harishankar parsai , harishankar parsai stories, harishankar parsai ki vyangya rachnayen, harishankar parsai ki rachnaye, satire of harishankar parsai, harishankar parsai ke vyangya, हरिशंकर परसाई के व्यंग्य, हरिशंकर परसाई की रचनाएँ, हिंदी व्यंग्य, satire

दशरथ को सफेद बाल दिखे तो राम को राजगद्‌दी दे दी, पर हरिशंकर परसाईजी...

हिंदी के सशक्त व्यंग्यकार हरिशंकर परसाईजी को अचानक अपने कान के पास एक सफेद बाल नजर आ गया। उनका दिल धक्क रह गया। फिर क्या...
satire , vyangya sharad joshi , satire on ganesha mouse, ganeshji jokes, गणेशजी पर जोक्स, शरद जोशी के व्यंग्य, शरद जोशी की रचनाएं, satire of sharad joshi, अथ श्री गणेशाय नम:, गणेश चूहे पर जोक्स, व्यंग्य, satire

शरद जोशी का व्यंग्य – ‘अथ श्री गणेशाय नम:’ यानी देश के चूहों की...

शरद जोशी अथ श्री गणेशाय नम:, बात गणेश जी से शुरू की जाए, वह धीरे-धीरे चूहे तक पहुँच जाएगी। या चूहे से आरंभ करें और...
harishankar parsai satire , satire of harishankar parsai, harishankar parsai ke vyangya, harishankar parsai independence day, हरिशंकर परसाई के व्यंग्य, हरिशंकर परसाई की कहानियां, हिंदी व्यंग्य, hindi vyangya,बेरंग शुभकामना और जनतंत्र

हरिशंकर परसाई का क्लासिक व्यंग्य ‘बेरंग शुभकामना और जनतंत्र’

हरिशंकर परसाई नया साल राजनीति वालों के लिए मतपेटी का और मेरे लिए शुभकामना का बेरंग लिफाफा लेकर आया है। दोनों ही बेरंग शुभकामनाएं हैं,...
हरिशंकर परसाई के व्यंग्य , harishankar parsai, harishankar parsai ke vyangya, satire. gandhiji ka shal

हरिशंकर परसाई का क्लासिक व्यंग्य ‘गांधीजी का शाल’

हरिशंकर परसाई चार दिन हो गए, पर शाल का पता नहीं लगा। सेवकजी ने रेलवे स्टेशन पर पूछताछ की पर कोई खोज नहीं मिली। पुलिस...
harishankar parsai vyangya , satire of harishankar parsai, harishankar parsai ki rachnaye, हरिशंकर परसाई की रचनाएं, हरिशंकर परसाई के व्यंग्य

हरिशंकर परसाई का क्लासिक व्यंग्य ‘तीसरे दर्जे के श्रद्धेय’

हरिशंकर परसाई बुद्धिजीवी बहुत थोड़े में संतुष्ट हो जाता है। उसे पहले दर्जे का किराया दे दो ताकि वह तीसरे में सफर करके पैसा बचा...
satires of harishankar parsai , harishankar parsai ke vyangya, harishankar parsai stories, harishankar parsai ki vyangya rachnayen, हरिशंकर परसाई, हरिशंकर परसाई के व्यंग्य

हरिशंकर परसाई का व्यंग्य ‘एक गोभक्त से भेंट’

हरिशंकर परसाईएक शाम रेलवे स्टेशन पर एक स्वामीजी के दर्शन हो गए. ऊंचे, गोरे और तगड़े साधु थे. चेहरा लाल. गेरुए रेशमी कपड़े...
शरद जोशी व्यंग्य , Sharad Joshi satirist , satire of Sharad Joshi

शरद जोशी का लघु व्यंग्य ‘उल्लू कौन?’

शरद जोशीएक मकान था। उसके सामने एक पेड़ था। पेड़ के नीचे एक गाड़ी खड़ी रहती थी। एक आदमी रोज़ सुबह उस घर...