इस एक अफवाह के कारण फैला देश में कैश संकट, मोदी से है डायरेक्ट कनेक्शन

cash-crisis , ATM cash crisis, no cash in ATM,नकदी का संकट, क्या है नकदी संकट की वजह?, causes of cash crisis, modi in london, लंदन में मोदी, मोदी पर जोक्स, jokes on modi

By A. Jayjeet

हिंदी सटायर डेस्क। देश में पिछले कुछ दिनों से जारी कैश संकट की असली वजह क्या है? इसका खुलासा हो गया है। इसकी वजह एक अफवाह है। इस चक्कर में न केवल एटीएम के सामने लाइनें लग गईं, बल्कि लोगों ने अनावश्यक कैश भी निकाल लिया।

क्या थी अफवाह?

दरअसल, कुछ शरारती तत्वों ने अफवाह फैला दी कि हर व्यक्ति के अकाउंट में 15-15 लाख रुपए आ गए हैं। ये 15 लाख रुपए वही थे जो मोदीजी ने देने का वादा किया था। भले ही अमित शाह जी ने इसे जुमला बता दिया, लेकिन लोगों को मोदीजी पर पूरा भरोसा रहा है। बस इसी कारण लोग इस अफवाह के चक्कर में आ गए और एटीएम पर टूट पड़े। कई लोग तो केवल यह चेक करने के लिए एटीएम की लाइनों में लग गए कि अब उनके अकाउंट में 15 लाख प्लस कितना पैसा हो गया है। लेकिन कुछ भोले-भाले लोगों ने तो यह सोचकर कैश निकालना ही शुरू कर दिया कि अब जब 15 लाख आ ही गए हैं तो सूत लो। बस, नतीजा सामने हैं।

अफवाह का एक एंगल यह भी…

यह अफवाह किसने फैलाई, सरकार इसकी जांच कर रही है। शायद कांग्रेसियों ने ही फैलाई होगी। लेकिन इसमें मोदीजी के परम भक्तों ने भी अपना एंगल जोड़ दिया। चूंकि मोदीजी इस समय लंदन में हैं। तो कुछ मोदी भक्तों ने अफवाह को आगे बढ़ाते हुए कह दिया कि मोदीजी लंदन गए ही इसलिए हैं कि माल्या से पूरा पैसा वसूल कर लोगों के अकाउंट में डाल सकें। अफवाह में कहा गया- लंदन एयरपोर्ट पर उतरते ही मोदीजी सीधे माल्या के पास पहुंचे। माल्या छह-सात खूबसूरत लड़कियों से घिरा हुआ था और दारू पी रहा था। मोदी को देखते ही माल्या घबरा गया। वह उठकर भागने लगा। लेकिन मोदीजी ने उसकी गर्दन दबोच ली। फिर युवतियों से कहा-बेटियो, तुम तो बाहर जाओ जरा। युवतियों के बाहर जाने के बाद माल्या की कॉलर पकड़ते हुए कहा- मेरे देश के 9 हजार करोड़ रुपए निकाल। अभ्भी कि अभ्भी। नहीं तो… मां भारती की कसम…यहीं पे…। इतना कहते ही माल्या मोदीजी के चरणों में गिर गया और ब्याज सहित 12 हजार करोड़ रुपए दे दिए। अफवाह में दावा किया गया कि यही पैसे आम लोगों के अकाउंट में जमा करवाए गए।

(Disclaimer : यह खबर कपोल-कल्पित है। इसका मकसद केवल हास्य-व्यंग्य करना है, किसी की मानहानि करना नहीं।)