Exclusive Interview Again : कोरोना को अब राजनीति से डर नहीं लगता, मास्क लगाने की वजह का किया खुलासा

corona , corona interview, lockdown anniversary jokes, political satire, राजनीतिक कटाक्ष, कोरोना व्यंग्य, कोरोना जोक्स, corona per jokes

इस व्यंग्य को वीडियो में देखने और सुनने के लिए यहां क्लिक करें…. 

(साल भर में कितने बदल गए कोरोना के अनुभव, दूसरी बार दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कोरोना ने साझा की कई मजेदार बातें… )

By Jayjeet

आज से साल भर पहले जब कोरोना भारत आया तो उस समय यही रिपोर्टर था, जिसने मीडिया जगत में पहली बार किसी वायरस का इंटरव्यू लिया था (पढ़ें वह इंटरव्यू यहां)। लॉकडाउन की पहली बरसी पर रिपोर्टर ने फिर से उसी कोरोना को ढूंढ निकाला। साल भर में वजन थोड़ा बढ़ गया है। डायबिटीज बॉर्डर लाइन पर है। दांत पीले से हैं। शायद पान-मसाला खाना भी शुरू कर दिया है। पहले इंटरव्यू में उसने राजनीति पर बात करने से साफ इंकार कर दिया था, लेकिन इस बार भारतीय राजनीति पर खुलकर बातें की। दोबारा लिए गए इंटरव्यू में कोरोना ने ढेर सारे अनुभव साझा किए।

रिपोर्टर : क्या बात है कोरोना जी, बड़े हेल्दी-शेल्दी हो गए हैं। लगता है पानी जम गया यहां का…

कोरोना : हम्म… खान-पान तो चेंज हुआ ही है। वहां बीजिंग में बेस्वाद नूडल्स और सफेद चावल खाते-खाते तंग आ गया था। यहां की फितरत में ही है तरी माल खाना। अब बीते दिनों राजनीतिक कार्यक्रमों और शादियों में भी काफी ज्यादा जाना हुआ। तो इस वजह से वजन बढ़ गया। फिर चाइना में ढेर-सारे नियम कायदों का टेंशन रहता था। यहां नियम-कायदों का ढेला भी टेंशन नहीं। जहां थूकना हो थूको, जो मर्जी हो वह करो। तो इससे भी फर्क पड़ा। अब वजन को लेकर मैं दो-चार दिन में बाबाजी से मिलता हूं…

रिपोर्टर : बाबाजी, मतलब बाबा रामदेव?

कोरोना :
हां, वही वाले। सोच रहा हूं कि वजन घटाने वाले कुछ आसन उन्हीं से सीख लूं।

रिपोर्टर : मेरी सलाह है, उनसे बच के रहिए। कोई उन्होंने कोई दवाई बनाई है। दावा है कि उससे आप जैसे सैकड़ों निपट जाएंगे।

कोरोना : आप कोरोनिल की बात कर रहे हो? घंटा डरे उससे… सॉरी मुंह से निकल गया ऐसा अप्रिय शब्द।

रिपोर्टर : मतलब, यहां की भाषा में भी प्रवीण हो रहे हैं आप.. बहुत बढ़िया। अच्छा बीते दिनों आपकी नेताओं से भी खूब मुलाकातें हुईं। उनसे मुलाकात का अनुभव कैसा रहा?

कोरोना : हां, कई नेताओं से मुलाकात हुई। मोटा भाई, नड्डा जी, शिवराज जी। कई कांग्रेसी नेता भी थे।

रिपोर्टर : उनसे कोई रोचक बात हुई हो तो साझा कीजिए।

कोरोना : हां, शिवराज जी मुझसे मजाक में कहा था कि भाई कोरोना, हम नेताओं के गले मत पड़ो। हमारा तो कुछ ना होने वाला। मुझे आपकी चिंता हो रही है। वाह, बड़ा ही मजेदार आदमी हैं आपका मामू, आई मीन मामाजी…

रिपोर्टर : कांग्रेसी नेताओं से भी आपकी चर्चा हुई होगी।

कोरोना : हां, पर सब स्साले हूं हूं करते रहे। ज्यादा पूछो तो कहते राहुल भैया का वो डॉगी, क्या नाम है उसका पीडी, उससे पूछके बताएंगे। अब ये क्या बात हुई भला! इसीलिए कांग्रेस की ऐसी औकात हो रही है।

रिपोर्टर : किसी सेलेब्रिटी के साथ कोई खट्टा-मीठा अनुभव रहा?

कोरोना : मत पूछो भैया। लॉकडाउन की बात है। रोड पे मजदूरों के रेले देख-देखके थोड़ा डिप्रेस हो रहा था। तो सोचा कि चलो किसी खूबसूरत एक्ट्रेस से मिल आते हैं। जस्ट फॉर चेंज, फील गुड के लिए। तो मैं एक एक्ट्रेस के बंगले पर गया। वह बालकनी में खड़ी थी। मैं दीदार के लिए बॉलकनी की रैलिंग पर उसके और भी नजदीक पहुंच गया। उसने चेहरे पर मास्क लगा रखा था और वो मोबाइल पर बात कर रही थी। मैं थोड़ा और पास खिसका। और भी पास.. बिल्कुल नजदीक पहुंचने ही वाला था कि तभी हवा के झोंके से उसका मास्क निकल गया। अरे बाप रे…उसका चेहरा देखकर तो मेरा दिल धक्क बैठ गया। आप विश्वास ना करेंगे, पर मुझे गहरा सदमा लगा था। यहां तक सोचने लगा था कि चीन निकल जाऊं और वॉल ऑफ चाइना से लटक के जान दे दूं। फिर थोड़ा नार्मल हुआ तो ध्यान आया कि मेरे कारण तो लॉकडाउन चल रहा है। तो मेकअप-शेकअप वाले कहां से आएंगे। बेचारी उस एक्ट्रेस का क्या कसूर? बस इतना ही…

रिपोर्टर : पिछले साल मैंने ही आपका पहली बार इंटरव्यू लिया था। उसके बाद अरनब गोस्वामी ने आपसे बात करने की कोशिश की थी। आपके साथ हॉट टॉक भी हुई थी। तफ्सील से बताइए ना कि क्या हुआ था?
कोरोना : अरनब ने फोन करके अपनी वाली स्टाइल से पूछा – नेशन वांट्स टु नो कि तू इस समय भारत में क्या कर रहा है? और तू यहां से कब जाएगा? अब तू-तकारा भले ही उसके स्टूडियो में आने वाले लोग सहन कर लेते होंगे, अपन को पसंद नहीं। तो अपन ने भी उधर से बोल दिया – मैं तेरे बाप का नौकर नहीं जो तुझे जवाब दूं। बस इतना सुनते ही अरनब इतने जोर से चीखे कि बाजू वाले स्टूडियो की एक छत ढह गई।

रिपोर्टर : आम भारतीयों को लेकर आपका क्या विचार है?

कोरोना : बहुत ही गजब लोग हैं। मैं यहां आतंक फैला रहा था और भारतीय लोग मुझ पर मीम्स, जोक्स बना रहे थे। मतलब, नॉन सीरियसनेस की हद है यह तो।

रिपोर्टर : अगला सवाल यह है कि…

कोरोना बीच में ही टोकते हुए … : सर, अब मुझे ड्यूटी पर भी जाना है…
रिपोर्टर : हां, मैं समझता हूं, लोगों को संक्रमित करने जाना होगा…

कोरोना : संक्रमित करने नहीं भाई, सब्जी लेने जाना है… अब आपको क्या बताऊं। पिछली देवउठनी पर मैंने एक सुंदर-सुशील कोरोनी से शादी कर ली। तो पहली ड्यूटी तो यही है रोज सुबह उठकर सब्जी लेने जाना, बीवी को शॉपिंग-वॉपिंग करवाना। इसी में थक जाता हूं…

रिपोर्टर : चलिए, अंतिम सवाल। एक जिज्ञासा है। मुझसे बातचीत करते समय आपने भी मास्क पहन रखा है। दो गज की दूरी भी मैंटेन कर रहे हैं। ऐसा क्यों?

कोरोना : छह महीने पहले मैं भी इंसानी वायरस से संक्रमित हो चुका हूं। मुंह में गाली-गलौज, दिल में बेईमानी, एक-दूसरे के प्रति नफरत के भाव, बहुत सारी इंसानी चीजें आ गई हैं। तो मेरे डॉक्टर ने सचेत किया है कि अगर दोबारा मैं संक्रमित हुआ तो फिर इंडियन पॉलिटिक्स करने के अलावा मैं किसी काम का ना रहूंगा। इसीलिए बचकर रहता हूं… चलता हूं। चाइना लौटने से पहले अगर इंसानी संक्रमण के दोबारा अटैक से बच सका तो फिर मिलूंगा..।

कोरोना से संबंधित यह भी पढ़ें, देखें…

जब शिवराज सिंह ने कोरोना से कहा – हम नेता तो बच जाएंगे, मुझे आपकी चिंता है

पतंजलि ने कोरोना की दवा बनाने का दावा क्या किया, अनुमति मांगने आ गया वायरस

Interview : जब कोरोना वायरस ने पॉलिटिकल सवाल पूछने से मना कर दिया…

Funny Video : कोरोना क्यों हुआ पस्त?