Funny : जकरबर्ग ने Facebook बंद करने का ऐलान किया, बैकफुट पर आई मोदी सरकार

facebook-controversy , Cambridge Analytica Controversy, FB sakrar ki chetawani, फेसबुक, फेसबुक का विवाद क्या है?, मार्क जकरबर्ग, mark-zuckerberg

हिंदी सटायर डेस्क। फेसबुक को भारत सरकार की कड़ी चेतावनी से आहत मार्क जकरबर्ग ने इंडिया में फेसबुक और वाट्सऐप बंद करने का ऐलान कर दिया है। इस ऐलान के बाद देशभर में हड़कंप मच गया है। इससे देश में बेरोजगारी की दर 9 से बढ़कर 22 फीसदी होने और पति-पत्नियों के बीच तनाव बढ़ने की आशंका जताई गई है।

चुनाव में दखल और डेटा चोरी को लेकर भारत सरकार ने फेसबुक को चेतावनी जारी की थी। लेकिन जकरबर्ग ने इसे सीरियसली ले लिया। उन्होंने एक बयान में कहा, लोगों का डेटा सुरक्षित रखना हमारी जिम्मेदारी थी। लेकिन हम ऐसा नहीं कर सके। इसके प्रायश्चित स्वरूप मैंने भारत में फेसबुक के साथ-साथ वाट्सेएप भी बंद करने का फैसला लिया है।” गौरतलब है कि वाट्सएप भी मार्क जकरबर्ग के पास ही है।

सरकार भी सकते में :

जकरबर्ग के इस ऐलान के बाद सरकार भी सकते में आ गई है। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के एक करीबी सूत्र ने बताया, “सरकार ने मजाक-मजाक में फेसबुक के खिलाफ कार्रवाई की बात कर दी थी। लेकिन जकरबर्ग ने इसी सीरियसली ले लिया। जकरबर्ग को पता होना चाहिए था कि यहां की सरकारें तो आए दिन मजाक करती रहती हैं।”

बढ़ेगी बेरोजगारी की दर :

फेसबुक और वाट्सएप बंद होने से देश में बेरोजगारी की दर 9 से बढ़कर 22 फीसदी होने की आशंका जताई गई है। अभी कई लोग इन जगहों पर बिजी रहते हैं। सरकार को डर है कि फेसबुक और वाट्सएप बंद होने के बाद ये लोग काम-धंधा नहीं मांगने लगें।

समाजशास्त्री एक राय नहीं:

इस मामले में समाजशास्त्री बंटे हुए नजर आ रहे हैं। समाजशास्त्रियों के एक वर्ग ने इसे अच्छा कदम बताया है। फेसबुक पर डाली अपनी अंतिम पोस्ट में समाजशास्त्री डॉ. राधेशंकर ने कहा, “इससे लोग फिर वास्तविक दुनिया की ओर लौट सकेंगे। परिवारों में शांति आएगी।”

हालांकि कुछ समाजशास्त्रियों ने इसके उलट राय जाहिर की है। डॉ. वर्धराजन ने कहा कि जब पति-पत्नी या प्रेमी-प्रेमिकाओं के पास फेसबुक और वाट्सएप नहीं होगा तो वे आपस में बात करने लगेंगे। बात से बात बिगड़ेगी जिससे अनावश्यक तनाव पैदा होगा। पहले यह तनाव फेसबुक और वाट्सएप पर निकल जाता था। अब कहां निकलेगा?

(Disclaimer : यह खबर कपोल-कल्पित है। इसका मकसद केवल स्वस्थ मनोरंजन और मौजूदा हालात पर कटाक्ष करना है, किसी की मानहानि करना नहीं। )