अब फेक नेताओं पर बैन लगाने की मांग, जानिए इन्हें कैसे पहचानें?

fake-news , fake news controversy, fake politicians, फेक न्यूज, फेक नेता, नेताओं पर व्यंग्य, satire on politician, neta per jokes

By Jayjeet

हिंदी सटायर डेस्क। फेक न्यूज को लेकर चल रहे विवाद के बीच सभी राजनीतिक दलों ने एक स्वर में फेक नेताओं पर बैन लगाने की मांग की है। नेताओं की सर्वदलीय समिति ने इस संबंध में सरकार को एक पत्र भेजा है। इसमें समिति ने आशंका जताई है कि जैसे एक गंदी मछली सारे तालाब को गंदा कर देती है, उसी तरह ऐसे चुनिंदा फेक नेता भी राजनीति के पवित्र सागर को गंदा कर देंगे। इसलिए इन पर तुरंत प्रतिबंध लगाकर और उन्हें लात मारते हुए राजनीति से बाहर कर देना चाहिए।

फेक नेताओं के गिनाए कु-लक्षण

हिंदी सटायर को भी लीकेज में इस पत्र की एक कॉपी हाथ लगी है। इस पत्र में फेक नेताओं के 5 कु-लक्षण बताए गए हैं। हम अपने रीडर्स के लिए भी 5 कु-लक्षण बता रहे हैं ताकि वे सतर्क रहें और ऐसे कु-लक्षण वाले नेताओं को देखते हुए उन्हें लात मारकर भगा सकें।

कु-लक्षण 1 : जैसी कथनी, वैसी करनी
ये वे होते हैं, जो जैसा बोलते हैं, वैसा करते हैं। इनकी कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं होता। ये ईमानदारी की न केवल बात करते हैं, बल्कि खुद ईमानदार भी होते हैं।

कु-लक्षण 2 : धर्म और जातिवाद से परे
ये नेता वोट लेने के लिए न धर्म का सहारा लेते हैं और न जाति का। इन्हें अक्सर चुनाव का टिकट भी नहीं मिलता। गाहे-बगाहे अगर टिकट मिलता भी है तो जीतते नहीं हैं। मौजूदा राजनीति के लिए ये सबसे घातक हैं।

कु-लक्षण 3 : भाई-भतीजावाद पर भरोसा नहीं
ये नेता समाज सेवा की इच्छा से राजनीति करते हैं। ये न अपने बेटे-बेटियों को आगे बढ़ाते हैं, न अपने रिश्तेदारों को। अपने उत्तराधिकारी का चयन मेरिट के आधार पर करते हैं।

कु-लक्षण 4 : कमीशनखोरी से परहेज
ये इन नेताओं का सबसे बड़ा कु-लक्षण है। ये कमीशनखोरी से परहेज कर नेतागिरी के पावन उद्देश्य को ही डिफिट कर देते हैं। ऐसे नेता न केवल खुद के, बल्कि पूरी भारतीय राजनीति पर कलंक के समान होते हैं।

कु-लक्षण 5 : संस्कार पैदाइशी इनबिल्ट
ऐसे फेक नेताओं के मुंह पर अपने विरोधियों के लिए भी सम्मान का भाव रहता है। ये कोई गाली-गलौज नहीं करते। संस्कार नामक अवगुण इनमें पैदाइशी इनबिल्ट होता।

सरकार ने पूछा, ऐसे नेता हैं कहां?

नेताओं की सर्वदलीय समिति के पत्र के जवाब में सरकार ने पूछा है कि ऐसे नेता हैं कहां? सरकार ने कहा कि हमें तो ये न किसी सरकार में नजर आते हैं, न किसी पार्टी में प्रमुख पदों पर। अगर दो-चार कहीं होंगे भी इधर-उधर कोने में पड़े होंगे। हमें इसकी चिंता में दुबले नहीं होकर राष्ट्रहित में जुटे रहना चाहिए।

(Disclaimer : जाहिर-सी बात है, यह फेक न्यूज है। इसका मकसद केवल राजनीतिक कटाक्ष करना है, किसी नेता की मानहानि करना नहीं।)

———————————————————-

Google Translation 

Now demand to ban fake leaders, know how to identify them?

Hindi Satire Desk. Amid the ongoing controversy over fake-news, all political parties have demanded a ban on fake leaders in one voice. The all-party committee of leaders has sent a letter to the government in this regard. In this, the committee has expressed the apprehension that such a dirty fish will pollute the pond, in the same way, such select fake leaders will also pollute the holy sea of politics. Therefore, they should be thrown out of politics by banning and kicking them immediately.

Some characteristics of fake leaders
Hindi Satire has also received a copy of this letter in leakage. This letter mentions 5 bad traits of fake leaders. We are also introducing 5 bad-signs for our readers so that they can be vigilant and can kick them away by seeing such Ku-traits leaders.

Bad Symptom 1: Do as you say
They are the ones who do what they say. There is no difference between his words and his actions. They not only talk about honesty, but they are also honest themselves.

Bad Symptom 2: Beyond Religion and Casteism
These leaders neither resort to religion nor caste to get votes. They often do not even get an election ticket. Even if you get a ticket, you do not win. These are the deadliest for current politics.

Bad Symptom 3: Do not rely on nepotism
These leaders do politics with the desire of social service. They do not forward their sons and daughters, nor to their relatives. Select his successor on the basis of merit.

Bad Symptom 4: Avoiding Commissioning
This is the biggest malfunction of these leaders. These commissions defy the pure purpose of Netagiri by avoiding hoarding. Such leaders resemble the stigma not only on themselves, but on the whole of Indian politics.

Bad Symptom 5: Rites of Birth Inbuilt
Such fake leaders also have a sense of respect for their opponents. They are not abusive. There would be a birth inbuilt called Avguna in it.

The government asked, where are such leaders?
In response to the letter of the all-party committee of leaders, the government has asked that where are such leaders? The government said that we do not see them in any government or in key positions in any party. If there are anywhere between two to four, it will be lying in the corner. We should not be lulled into worry about it and should remain engaged in the national interest.