राज कुंद्रा मामले से फुर्सत मिलते ही रिपोर्टर ने कर ली बादल के टुकड़े से खास बातचीत

floods ,cloud, hindi satire, heavy rains jokes satire, शहरों में बाढ़ जोक्स, शहरों में बाढ़ व्यंग्य

By Jayjeet

जैसे ही पानी से भरा बादल का टुकड़ा छत के ऊपर से गुजरा, रिपोर्टर ने हाथ के इशारे से उसे रोक लिया।

बादल : कौन हो भाई? क्यों रोक लिया हमें?

रिपोर्टर : मैं रिपोर्टर। आपका जरा एक रैपिड इंटरव्यू करना है।

बादल : अच्छा, एक गरीब बादल से इंटरव्यू!! तो आपको राज कुंद्रा के राज जानने से फुर्सत मिल गई?

रिपोर्टर : इस मामले को सीबीआई को सौंपा जा सकता है। तो हमारी जरूरत नहीं पड़ेगी।

बादल : वैसे मुझे सीबीआई पर भरोसा नहीं है। आप लोग सही तो जा रहे हैं।

रिपोर्टर : बादल महोदय, मैं आपको स्पष्ट कर दूं कि मेरा ऐसे मामलों में कोई खास इंटरेस्ट नहीं है। मैं तो डेवलपमेंटल रिपोर्टर हूं।

बादल : डेवलपमेंटल रिपोर्टर बोलने भर से कोई विकास टाइप की पत्रकारिता करने वाला पत्रकार नहीं बन जाता, जैसे बार-बार विकास विकास बोलने भर से विकास ना हो जाता। खैर मुद्दे पर आइए और पूछिए क्या पूछना है? पर जरा जल्दी, सीजन चल रहा है।

रिपोर्टर : पहला सवाल, या कह सकते हैं कि पहला आरोप तो यही है कि आप बरसने में इतनी असमानता क्यों रखते हैं? कहीं घटाघोप तो कहीं एक बूंद भी नहीं।

बादल : यह सवाल कभी आपने अपने नेताओं से पूछा, उन जिम्मेदारों से पूछा जिनके ऊपर समान विकास की जिम्मेदारी रही है?

रिपोर्टर : समझा नहीं।

बादल : अब इतने भी नासमझिये ना बनो। भई, सालों से आपके नेता समाजवाद की बात करते आए हैं, लेकिन हुआ क्या? समानता आई?

रिपोर्टर : अरे आप ये कहां इस मस्त मौसम में फालतू के सवाल लेकर बैठ गए।

बादल : शुरुआत किसने की थी?

रिपोर्टर : हां गलती मानी, पर मेरा तो केवल इतना-सा सवाल था कि ऐसा भी क्या बरसना कि शहरों में बाढ़ आ जाए…

बादल : पत्रकार महोदय, बरसते तो हम सदियों से आए हैं, लेकिन पहले नदियों में बाढ़ आती थी। अब नदियां तो वैसी रही नहीं तो शहरों में आ रही है। बाढ़ कहीं तो आएगी ना!

रिपोर्टर : पर आप यह भी तो मानिए ना कि आपके बरसने का तरीका ही गलत है। सिस्टम नाम की कोई चीज नहीं रही है आपके यहां। आधे घंटे में पांच-पांच इंच बारिश। ये क्या बात हुई भला?

बादल : देखिए, हमारे सिस्टम को दोष मत दीजिए। यह सब आप लोगों की वजह से हो रहा है। ग्लोबल वार्मिंग इतनी बढ़ा दी तो हमारा सिस्टम क्या करेगा?

रिपोर्टर : फिर वही घिसी-पिटी बात। बार-बार हम केवल ग्लोबल वार्मिंग को दोष नहीं दे सकते। अब हमें आगे की ओर देखना चाहिए।

बादल : तो फिर तो मुझे इसी तरह से बरसना होगा। और कोई चारा नहीं है। बस, समझ लो ये बात…

रिपोर्टर : फिर भी आप भी तनिक समझने की कोशिश कीजिए। आपकी थोड़ी सी बारिश में सरकारों की बड़ी बेइज्जती हो जाती है। हम रिपोर्टर्स को भी मजबूरी में लिखना पड़ता है कि मुंबई हुई पानी पानी, वगैरह वगैरह… तो कुछ तो ऐसा उपाय बताइए कि हमें बार-बार इस बात पर शर्मिंदा न होना पड़े कि शहर फिर बाढ़ में डूबे। आप तो इतना घूमते हैं। आपको कोई तो उपाय मालूम होगा।

बादल : तो सिंपल सा उपाय सुन लीजिए और मुझे चलने की अनुमति दीजिए। उपाय यह है कि संसद का मानसून सत्र चल ही रहा है। अगर सरकार एक कानून बनाकर मानसून में हर शहर को नदी घोषित कर दें तो न रहेंगे शहर, न आएगी शहरों में बाढ़। और फिर सरकार की इज्जत भी बच जाएगी और आपको भी लिखना ना पड़ेगा – फलाना शहर हुआ पानी पानी…

रिपोर्टर : उपाय तो बड़ा प्रोग्रेसिव है, हमारे नेताओं को भी रास आएगा, परंतु…

बादल : अब सवाल-जवाब बहुत हुए। मुझे चलने की अनुमति दीजिए। किसान मेरा इंतजार कर रहा है…आप शहरियों को हम न बरसे तो दिक्कत और बरसे तो दिक्कत …

(ए. जयजीत खबरी व्यंग्यकार हैं। अपने इंटरव्यू स्टाइल में लिखे व्यंग्यों के लिए चर्चित हैं।)

# floods , # floods in city ,  # heavy rains ,  # floods jokes