‘होली कब है… ’ में छिपा है गब्बर का मैनेजमेंट मंत्र, ऐसे ही 7 फंडे

gabbar-singh-ke-dialogue , gabbar-gingh-jokes, sholay film ke dialogue, शोले के डायलॉग्स, गब्बर सिंह के डायलॉग, गब्बर का मैनेजमेंट, management of gabbar, holi jokes, होली पर जोक्स

By Jayjeet

हिंदी सटायर डेस्क। ‘होली कब है, कब है होली…’ गब्बर के इस डायलॉग का अक्सर होली के समय काफी मजाक बनाया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि गब्बर अक्सर यह डायलॉग क्यों बोलते थे? क्योंकि वे हम आम लोगों को मैनेजमेंट का मंत्र देना चाहते थे। और केवल यही नहीं, गुरु गब्बर के हर डायलॉग में मैनेजमेंट के फंडे छिपे हैं। बस उन्हें पहचानने की जरूरत है। हम बता रहे हैं उनके 7 डायलॉग्स में छिपे ऐसे ही मैनेजमेंट फंडे :

1.होली कब है, कब है होली….

गुरु गब्बर अक्सर यह डायलॉग क्यों बोलते हैं? हमें यह सिखाने के लिए कि हमेशा भविष्य की प्लानिंग करके रखो। जो-जो इवेंट्स आने वाले हैं, उन्हें हमेशा दिमाग में रखो। साथ ही अपने लक्ष्य को ओझल मत होने दो। इसलिए बार-बार दिमाग को उंगली करते रहो, जैसे होली कब है, कब है होली… ।

2. जो डर गया, वह मर गया…

गुरु गब्बर इसके जरिए यह कहना चाहते हैं कि आप चाहे कोई भी काम करो, आपको जिंदगी में रिस्क तो लेनी होगी। अगर आप रिस्क लेने में डर गए तो समझो आपके सपने भी उसी समय से मर गए।

3. यहां से पचास-पचास कोस दूर जब रात को बच्चा रोता है…

अपने इस बेहद इंस्पायरिंग डायलॉग के जरिए गुरु गब्बर दो बातें कहना चाहते हैं- एक, अपने ब्रांड/इमेज को इतना मजबूत बनाओ कि सब पर उसका प्रभाव हमेशा बना रहे। दूसरी, आपका अपना जो ब्रांड है, उस पर प्राउड करो, उसकी इज्जत करो। आप नहीं करोगे तो दूसरा भी नहीं करेगा।

4. अरे ओ साम्बा, कितना इनाम रखे है सरकार हम पर…

इसमें भी गुरु गब्बर खुद के ब्रांड को प्रमोट करने का ही ज्ञान दे रहे हैं। उनका कहना है कि बार-बार अपनी ब्रांडिंग करना आज के कॉम्पिटिशन के जमाने में बहुत महत्वपूर्ण है। नहीं करोगे तो कहीं के नहीं रहोगे।

5. कितने आदमी थे …

गुरु गब्बर कहना चाहते हैं कि अगर आपको अपने प्रतिस्पर्धी से आगे निकलना है तो पहले उसकी टीम और उसकी ताकत का आंकलन करना जरूरी है। इसीलिए वे बार-बार पूछते थे, कितने आदमी थे…

6. ले, अब गोली खा…

यहां गुरु गब्बर की प्रैक्टिकल सोच सामने आती है। वे यह कहना चाहते हैं कि कई बार ऑर्गनाइजेशन के हित में सख्त निर्णय भी लेने पड़ते हैं। यहां इमोशन वाला व्यक्ति फेल हो जाएगा। वैसे भी बीमार व्यक्ति को तो कड़वी गोली ही खिलाई जाती है।

7. छह गोली और आदमी तीन… बहुत नाइंसाफी है यह…

इसके पीछे गुरु गब्बर का सीधा-सा फंडा है – अगर आप लीडर की भूमिका में हैं तो अपने मातहतों को यह विश्वास दिलाते रहो कि आप केवल सही चीज में ही नहीं, नाइंसाफ टाइप की चीज में भी अपनी टीम के साथ है।

(Disclaimer : यह एक फनी आइटम है। फंडों को अपनी-अपनी रिस्क पर ही अमल में लाएं।)

यह भी पढ़ें : 

#होली पर पतंजलि ने लॉन्च की Kesar Gujiya, दाने-दाने पर होगा विमल का दम