काका हाथरसी ने जब वकीलों को यूं लिया था हाड़े हाथ…

kaka hathrasi ki funny poems , kaka hathrasi ki kavitayen, काका हाथरसी की कविताएं, काका हाथरसी का हास्य-व्यंग्य, काका हाथरसी, हिंदी फनी शायरी, हिंदी हास्य कविताएं, hindi funny shayari, वकीलों पर जोक्स, jokes on lawyers
नर्क का तर्क – काका हाथरसी

स्वर्ग-नर्क के बीच की, चटख गई दीवार
कौन कराए रिपेअर, इस पर थी तकरार
इस पर थी तकरार, स्वर्गवासी थे सहमत
आधा-आधा खर्चा दो, हो जाए मरम्मत।
नर्केश्वर ने कहा – गलत है नीति तुम्हारी
रंचमात्र भी नहीं जिम्मेदारी हमारी।

स्वर्ग वाले ने कहा –
जिम्मेदारी से बचें, कर्महीन डरपोक
मान जाउ, नहिं तो कोर्ट में दावा देंगे ठोक
दावा देंगे ठोक? नरक मैनेजर बोले-
स्वर्गलोक के नर-नारी होते हैं भोले
मान लिया, दावा तो आप जरूर करोगे
सब वकील हैं यहां, केस किस तरह लड़ोंगे?

यह भी पढ़ें…

सुरेंद्र शर्मा की सबसे पॉपुलर हास्य कविता ‘राम बनने की प्रेरणा’