ढिंचैक पूजा के सिर में जुएं, कांग्रेस और बीजेपी ने किए पलटवार

dhinchak-pooja , lice-in dhinchak pooja hair, big boss, sambit patra, sanjay nirupam, hindi jokes, satire, ढिंचैक पूजा, बिग बॉस, हिंदी जोक्स, हिंदी हास्य व्यंग्य

नई दिल्ली। भारत की सबसे पॉपुलर सेलेब्रिटी ढिंचैक पूजा के सिर में पाई गई जुएं भाजपा और कांग्रेस के बीच विवाद का विषय बन गई है। कल रात को एक टीवी चैनल पर इस मुद्दे पर हुई हंगामेदार बहस में दोनों ही दलों के प्रवक्ताओं ने एक-दूसरे पर जमकर हमले किए।

कांग्रेस के प्रवक्ता रंजय निरुपम ने इसके लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा, “यह सरकार लोगों को परेशान करने का एक भी मौका गंवाना नहीं चाहती। पहले नोटबंदी, फिर गब्बर सिंह टैक्स से लोग परेशानी से उबरे भी नहीं थे कि अब पूजा ढिंचैक के सिर में जुएं पैदा कर दी गई हैं। सरकार को शायद अनुमान नहीं है कि पूजा ढिंचैक के सिर में जुओं के कारण बिग बॉस के घर में रहने वाले आम लोगों को कितनी प्रॉब्लम हो रही है।”

इसके जवाब में भाजपा प्रवक्ता लांबित पात्रा ने कहा, “कुछ दिन पहले मोदीजी ने गायों को चारा खिलाया था तो उसका भी कांग्रेसियों ने मजाक उड़ाया था। अब पूजा ढिंचैक के सिर पर जुओं से कांग्रेसियों को परेशानी हो रही है। हमारी सरकार गायों से लकर जुओं तक सबकी चिंता करती है, लेकिन कांग्रेस के पास विरोध करने के अलावा कोई काम नहीं है।”

पात्रा ने आगे कहा, “बिग बॉस के घर में रहने वाले सभी लोगों से हमारी बात हुई है। वे जुओं की उसी तरह पूजा कर रही है, जैसे हम गायों की करते हैं। उन्हें कोई प्रॉब्लम नहीं है। प्रॉब्लम है तो बस कांग्रेस को।”

एक सवाल के जवाब में पात्रा ने कहा, “हम पर विरोधी असहिष्णु माहौल पैदा करने का आरोप लगाते थे। लेकिन पूजा ढिंचैक के सिर पर जुओं ने रहकर साबित कर दिया कि देश में असहिष्णु माहौल वाली बात कितनी गलत ओर प्रोपेगैंडा थी।”

बहस में मौजूद बसपा के नेता सुधींद्र कदौरिया ने दखल देते हुए कहा, “ आज भी हिंदू समाज गायों को ज्यादा सम्मान देता है। मोदी गायों को तो चारा खिलाते हैं, लेकिन जुओ को पूछते तक नहीं है। जुओं के लिए इससे बदतर स्थिति क्या होगी कि उन्हें पूजा ढिंचैक के सिर पर रहने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।” उन्होंने धमकी भरे स्वर में कहा कि अगर जुओं के साथ यही सौतेलापन जारी रहा तो बहनजी हिंदू धर्म त्यागकर बौद्ध धर्म अपना लेगी।”

(Disclaimer : यह खबर कपोल-कल्पित है। इसका मकसद केवल स्वस्थ मनोरंजन और राजनीतिक कटाक्ष करना है, किसी की मानहानि करना नहीं।)