#मकर_संक्रांति पर न नहाने वालों को भी मिलेगा पूरा पुण्य, सरकार ने जारी किया अध्यादेश

makar-sankranti ,makar-sankranti snan, makar sankranti jokes, मकर संक्रांति पर जोक्स, makar sankranti 2020 images, makar sankranti quotes
इस तरह से केवल पानी में उतरने को भी स्नान माना जाएगा।

By Jayjeet

हिंदी सटायर डेस्क, नई दिल्ली। एक और हिंदुत्ववादी कदम उठाते हुए मोदी सरकार ने एक अध्यादेश जारी किया है जिसके तहत उन हिंदुओं को भी पूरा पुण्य उपलब्ध करवाया जाएगा जो ठंड के चलते मकर संक्रांति की अलसुबह स्नान करने में खुद को असमर्थ पाएंगे। हालांकि विपक्ष ने इसे सीएए की तरह ही धार्मिक भेदभाव वाला अध्यादेश करार दिया है।

यह फैसला यहां मंगलवार को मकर संक्रांति से एक दिन पहले बुलाई गई कैबिनेट की एक विशेष बैठक में लिया गया। फैसले के बारे में जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया कि देश की बड़ी आबादी ठंड के कारण सप्ताह में तीन से चार दिन में एक बार ही नहा रही है। लेकिन मकर-संक्रांति पर मिलने वाले स्नान संबंधी पुण्य के मद्देनजर अधिकांश लोग धर्मसंकट में हैं कि नहाएं कि न नहाएं। लोगों को इसी धर्मसंकट से बाहर निकालने के लिए सरकार ने यह फैसला किया है। इसके लिए कैबिनेट ने हिंदू आचरण संहिता में संक्रांति के स्नान लाभ संबंधी अध्याय में आवश्यक संशोधन के लिए अध्यादेश लाने को मंजूरी दे दी है। इससे न नहाने वाले देश के करोड़ों हिंदुओं को फायदा होगा। यह अध्यादेश बुधवार की सुबह संक्रांति के दिन से देशभर में लागू हो जाएगा।

राहुल ने देशवासियों से किया जमकर नहाने का आह्वान :
विपक्ष ने सरकार के इस अध्यादेश को धार्मिक विभाजन बढ़ाने वाला कदम करार दिया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अधीररंजन ने कहा कि इस अध्यादेश से फिर साबित हो गया कि सरकार केवल हिंदुओं का ही ध्यान रख रही है। अगर सरकार की मंशा नेक होती तो वह मुस्लिमों को भी जुम्मे की नमाज के दिन स्नान वगैरह से छूट देने का इसमें प्रावधान करती। इस बीच, राहुल गांधी ने इस अध्यादेश के विरोध स्वरूप देशवासियों से जमकर नहाने का आह्वान किया है। आम लोगों को नहाने के लिए प्रेरित करने के वास्ते उन्होंने रणदीप सुरजेवाला, मनीष तिवारी, अधीररंजन चौधरी सहित कांग्रेस के सात नेताओं को सुबह ब्रह्म मुहुर्त में स्नान करने के निर्देश दिए। हालांकि उन्होंने पत्रकारों के इस सवाल का कोई सीधा जवाब नहीं दिया कि क्या विरोध स्वरूप वे भी नहाएंगे? राहुल ने मुस्कुराते हुए इतना ही कहा- “मैं कल ही नहाया हूं और आज भी फ्रेश ही नजर आ रहा हूं।”

अमित शाह की सफाई :
इस अध्यादेश पर अमित शाह ने मुस्कराते हुए इस तरह से सफाई दी, ‘मैं कहना चाहूंगा कि यह अध्यादेश स्नान नहीं करने से संबंधित है। यह किसी भी धर्म के व्यक्ति को नहाने के लिए मजबूर नहीं करता है, भले ही वह हिंदू हो या मुसलमान।’

(Disclaimer : इसका मकसद मकर संक्रांति के बहाने केवल राजनीतिक कटाक्ष करना है। धार्मिक भावनाओं का पूरा ख्याल रखा गया है… )