हिंदी के भक्तिकाल की तर्ज पर सिलेबस में जुड़ेगा नया अध्याय – राजनीति का भक्तिकाल

Modi-Bhakti , jokes on modi, modi par jokes, मोदी पर जोक्स, हिंदी जोक्स, hindi jokes, bhaktikal, भक्तिकाल, हास्य व्यंग्य, satire
बस, इत्ती-सी भक्ति!

(A new chapter will be added in syllabus on the lines of Bhaktikal of Hindi – Bhaktikal of politics)

By Jayjeet

हिंदी सटायर डेस्क, नई दिल्ली। कंगना रनौत के बयान के बाद से ही इतिहासकारों ने साल 2014 में मिली आजादी, इस आजादी के लिए किए गए संघर्ष और इस संषर्घ में भागीदार बनने वाले आजादी के सिपाहियों पर इतिहास लिखना शुरू कर दिया है। लेकिन इस बीच, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा एक नई पहल करते हुए हिंदी के भक्तिकाल की तर्ज पर पाठ्यक्रमों में ‘राजनीति का भक्तिकाल’ नाम से एक नया अध्याय जोड़ा जा रहा है। इस अध्याय की एक कॉपी hindisatire के भी हाथ लगी है। इसके मुख्य अंश हम अपने अपने पाठकों के लिए पेश कर रहे हैं :

‘राजनीति का भक्तिकाल’ पाठ के मुख्य अंश :

भारतीय राजनीति में भक्तिकाल का आरंभ ईस्वी 2014 यानी संवत् 2071 से माना जाता है। मोदी भक्त इतिहासकार, जो प्राय: साेशल मीडिया की देन रहे हैं, इसे भारतीय राजनीतिक शासन व्यवस्था का श्रेष्ठ काल मानते हैं। वैसे भक्तिकाल की धारा का उद्गम ईस्वी 2001 से प्रारंभ हो जाता है, जब नरेंद्र नाम के एक चमत्कारी सेनापति ने गुजरात नामक एक प्रांत की बागडोर संभाली थी। ईस्वी 2012 में उनके चौथी बार मुखिया बनने और ईस्वी 2013 में पीएम पद का उम्मीदवार घोषित करने के बाद से भक्तिकाल की यह धारा फूट-फूटकर बहने लगी। 2014 के बाद से तो सोशल मीडिया पर भक्ति की ऐसी धारा बही कि कृष्ण के सूरदास, राम के तुलसीदास जैसे दासों की भक्ति तक उसके सामने फीकी पड़ गई। भक्ति की धारा बहाते समय न जात का फर्क रखा, न पांत का।

जाति-पांति पूछे नहिं कोई।
मोदी को भजै सो मोदी का होई।

इस काल में मोदी भक्ति की कई रचनाएं रची गई हैं जो अविस्मरणीय है :

भक्ति जो सीढ़ी मुक्ति की, चढ़ै मोदी भक्त हरषाय।
और न कोई चढ़ि सकै, लात दे गिराय।।
यानी कवि कहता है कि मोदी का जो भक्त मोदी भक्ति नामक सीढ़ी चल लेता है, वह हमेशा प्रसन्नचित्त रहता है। लेकिन जो चढ़ने में हिचक करता है, तो सीढ़ी के ऊपरी पायदान पर बैठे मोदी भक्त उसे लात मारकर और भी नीचे गिरा देते हैं।

मोदी की भक्ति बिन, अधिक जीवन संसार।
धुवाँ का सा धौरहरा, बिनसत लगै न बार।।
यानी कवि कहता है कि मोदी की भक्ति के बिना संसार में जीना धिक्कार है। यह माया (वती) तो धुएं के महल के समान है। इसके खतम होने में समय नहीं लगता।

नेता ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय।
सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय।।
यहां कवि कहता है कि इस देश को ऐसे नेता की जरूरत है जैसे अनाज साफ़ करने वाला सूप होता है। जो ज्योतिरादित्य जैसे सार्थक को बचा लें और मार्गदर्शक मंडलों में बैठे अब निरर्थक हो चुके बूढ़ों को उड़ा दें।

इसी बात को दूसरे शब्दों में कवि इस तरह से भी कहता है :

पार्टी न पूछो नेता की, पूछ लीजिए वोट बैंक का ज्ञान।

मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।
अर्थात नेता की पार्टी न पूछकर यह जानना चाहिए उसका वोट बैंक कितना है। जैसे तलवार का मूल्य होता है, न कि उसकी म्यान का।

इस काल में कड़वा और तीखा बोलने वाले मोदी विरोधी अभक्तों के प्रति कोई नरमाई भी नहीं बरती गई। कवि की ये पंक्तियां स्पष्ट कर देती हैं :
खीरा सिर ते काटि के, मलियत लौंन लगाय।
मोदीभक्त करुए मुखन को, चाहिए यही राजद्रोह की सजाय।
अर्थात जिस तरह खीरे का कड़वापन दूर करने के लिए उसके ऊपरी सिरे को काटने के बाद नमक लगाकर घिसा जाता है, उसी तरह कटु वचन बोलने वाले के लिए राजद्रोह की सजा को मोदीभक्त उचित मानते हैं।

दो तरह की होती है भक्ति :
इतिहासकारों ने मोदी के प्रति भक्ति को सगुण भक्ति माना है। यानी वह भक्ति जो गुणों की वजह से की जाती है। लेकिन इसी दौरान निर्गुण भक्ति का भी एक दौर चला है। राजनीति में एक खास परिवार के प्रति भक्ति को इतिहासकार निर्गुण भक्ति की संज्ञा देते हैं। यानी वह भक्ति, जो गुणों की वजह से नहीं, परिवार के कारण की गई।

(Disclaimer : यह खबर कपोल-कल्पित है। इसका मकसद केवल स्वस्थ मनोरंजन और राजनीतिक कटाक्ष करना है, किसी की मानहानि करना नहीं।)

# Modi-Bhakti