गोडसे ने बापू की डायरी में यह क्यों लिखा : 1,10,234 …?

godse-killed-gandhi , who killed gandhi,nathuram godse killed gandhi, गांधी को किसने मारा, नाथूराम ने गांधी को क्यों मारा, why nathuram godse killed gandhi, gandhi satire, राजनीतिक व्यंग्य

By Jayjeet

गोडसे ने आज फिर बापू की डायरी ली और उसमें कुछ लिखा।

गांधी ने पूछा- अब कितना हो गया है रे तेरा डेटा?

एक लाख क्रॉस कर गया बापू। 1 लाख 10 हजार 234… गोडसे बोला

गांधी – मतलब सालभर में बड़ी तेजी से बढ़ोतरी हुई है।

गोडसे : हां, 12 परसेंट की ग्रोथ है। बड़ी डिमांड है …. गोडसे ने मुस्कराकर कहा…

गांधीजी ने भी जोरदार ठहाका लगाया…

नए-नए अपॉइंट हुए यमदूत से यह देखा ना गया। गोडसे के रवाना होने के बाद उसने अनुभवी यमदूत से पूछा- ये क्या चक्कर है सर? ये गोडसे नरक से यहां सरग में बापू से मिलने क्यों आया था?

अनुभवी यमदूत – यह हर साल 30 जनवरी को नर्क से स्वर्ग में बापू से मिलने आता है। इसके लिए उसने स्पेशल परमिशन ले रखी है।

नया यमदूत – अपने किए की माफी मांगने?

अनभवी – पता नहीं, उसके मुंह से तो उसे कभी माफी मांगते सुना नहीं। अब उसके दिल में क्या है, क्या बताए। हो सकता है कोई पछतावा हो। अब माफी मांगे भी तो किस मुंह से!

नया – और बापू? वो क्यों मिलते हैं उस हरामी से? उसके दिल में भले पछतावा हो, पर बापू तो उसे कभी माफ न करेंगे।

अनुभवी – अरे, बापू ने तो उसे उसी दिन माफ कर दिया था, जिस दिन वे धरती से अपने स्वर्ग में आए थे। मैं उस समय नया-नया ही अपाइंट हुआ था।

नया – गजब आदमी है ये… मैं तो ना करुं, किसी भी कीमत पे..

अनुभवी – इसीलिए तो तू ये टुच्ची-सी नौकरी कर रहा है…

नया – अच्छा, ये गोडसे, बापू की डायरी में क्या लिख रहा था? मेरे तो कुछ पल्ले ना पड़ रहा।

अनुभवी – यही तो हर साल का नाटक है दोनों का। हर साल गोडसे 30 जनवरी को यहां आकर बापू की डायरी को अपडेट कर देता है। वह डायरी में लिखता है कि धरती पर बापू की अब तक कितनी बार हत्या हो चुकी है। गोडसे नरक के सॉफ्टवेयर से ये डेटा लेकर आता है।

नया – अच्छा, तो वो जो ग्रोथ बोल रहा था, उसका क्या मतलब?

अनुभवी – वही जो तुम समझ रहे हो। पिछले कुछ सालों के दौरान गांधी की हत्या सेक्टर में भारी बूम आया हुआ है।

नया – ओ हो, इसीलिए इन दिनों स्वर्ग में आमद थोड़ी कम है…

अनुभवी – अब चल यहां से, कुछ काम कर लेते हैं। वैसे भी यहां मंदी छाई हुई है। नौकरी बचाने के लिए काम का दिखावा तो करना पड़ेगा ना… हमारी तो कट गई। तू सोच लेना….

(Disclaimer : इसका मकसद गांधीजी को बस अपनी तरह से श्रद्धांजलि देना है, गोडसे का रत्तीभर भी महिमामंडन करना नहीं… )

यह भी पढ़ें : राहुल ने ऐसा क्या कह दिया कि भाजपा व ‘आप’ में फैल गई दहशत?

ऐसे मजेदार न्यूजी जोक्स आपने कहीं नहीं पढ़ें होंगे… क्लिक करें यहां