लॉटरी सिस्टम से होगी पटवारियों की भर्ती, गड़बड़ियां रोकने के लिए बड़ा कदम

Patwari , Patwari exam, MP Patwari exam, Patwari jokes, Patwari hindi exam, पटवारी जोक्स, पटवारी परीक्षा, व्यापमं, पटवारियों पर जोक्स, patwari per jokes, Patwari exam me questions, hindi jokes
लॉटरी निकालने का मॉक टेस्ट। एग्जाम की फॉर्मेलिटी के बाद ऐसी ही लॉटरी से पटवारी चुने जाएंगे।

भोपाल। मप्र में व्यापमं के जरिए पटवारियों के करीब 10 हजार पदों के लिए भले ही परीक्षा ली जा रही है, लेकिन योग्य कैंडिडेट्स का चयन लॉटरी सिस्टम से किया जाएगा। ऐसा परीक्षाओं में पारदर्शिता लाने और किसी भी गड़बड़ी व भ्रष्टाचार को रोकने के लिए किया जा रहा है।

व्यापमं की परीक्षाओं में गड़बड़ियों के काफी आरोप लगे हैं। इन गड़बड़ियों की जांच एसटीएफ से लेकर सीबीआई तक कर रही है। पटवारी (Patwari) जैसे क्रीम पदों की भर्ती में भी गड़बड़ी के आरोप न लगे और पूरी प्रोसेस ट्रांसपेरेंट बनी रहे, इसके लिए यह निर्णय लिया गया। इसका फैसला बुधवार देर रात राज्य कैबिनेट की एक आपातकालीन बैठक में लिया गया। फैसले में कहा गया कि प्रदेश में भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ियों को रोकने के लिए इससे फुलप्रूफ और कोई उपाय नहीं है।

सूत्रों के अनुसार व्यापमं में हाल ही में हुए कुछ और खुलासों से राज्य सरकार दबाव में थी। पटवारी (Patwari) के लिए 12 लाख से भी अधिक ‘वोटर्स’ परीक्षा दे रहे हैं। ऐसे में अगर इस परीक्षा में धांधली के आरोप लगते तो सारे Fail वोर्टस सरकार का जीना हराम कर देते और बीजेपी को आगामी चुनावों में इसका खामियाजा भुगतना पड़ता। इसी के मद्देनजर यह बैठक बुलाई गई थी।

बैठक में प्रदेश की आवासीय परियोजनाओं में मकान आवंटन से जुड़े एक पूर्व सीनियर अफसर ने भर्ती परीक्षाओं में भी लाॅटरी सिस्टम को लागू करने का सुझाव दिया। इस संबंध में कैबिनेट के समक्ष दिए अपने प्रजेंटेशन में उन्होंने दावा किया कि यह इतना फुलप्रूफ सिस्टम है कि कोई इसमें एक धेले की भी गड़बड़ी नहीं कर सकता। उनके दावे के बाद कई मंत्री इसे लागू करने के पक्ष में नहीं दिखे, लेकिन मुख्यमंत्री ने इस पर तत्काल सहमति जता दी। इसे पहली बार Patwari भर्ती परीक्षा से लागू करने का निर्णय लिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम प्रदेश की परीक्षा प्रणाली को पारदर्शी बनाने को लेकर प्रतिबद्ध हैं। इसी के तहत लॉटरी सिस्टम को लागू किया जा रहा है। इससे योग्य प्रतिभाओं को चुनने में मदद मिलेगी और सबके साथ न्याय हो सकेगा। उन्होंने नियमानुसार इसमें भी आरक्षण के प्रावधान लागू करने के निर्देश दिए।

(Disclaimer : यह खबर पक्की कपोल कल्पिल है। इसका मकसद केवल सिस्टम पर कटाक्ष करना है, किसी प्रकार की झूठी जानकारी प्रचारित करना नहीं।)