कैसा होगा राहुल गांधी का पहला अध्यक्षीय भाषण, पढ़िए कुछ Leak हिस्से

Rahul Gandhi , Rahul Gandhi becomes Congress president, rahul gandhi presidential speech, राहुल गांधी बने कांग्रेस अध्यक्ष, कांग्रेस अध्यक्षों के अध्यक्षीय भाषण, congress presidential speech, political satire

नई दिल्ली। राहुल गांधी आखिर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन ही गए। आज नाम वापसी की अंतिम तारीख थी। तीन बजे तक राहुल गांधी द्वारा नाम वापस नहीं लेने की वजह से पार्टी को उन्हें अध्यक्ष घोषित करना पड़ा। इस बीच, उनके ट्विटर पोस्ट करने वाले पीडी (PIDI) ने उनका भाषण पहले ही तैयार कर लिया है। इसकी एक कॉपी hindisatire.com के भी हाथ लग गई। इसी कॉपी से हम पेश कर रहे हैं पहला अध्यक्षीय भाषण (जो वे जल्दी ही देश के सामने पढ़ेंगे) :

राहुल का भाषण :

मेरे पूरे परिवार ने देश के लिए बहुत कुर्बानियां दी हैं। दादी ने कुर्बानी दी। पापा ने भी देश के लिए खुद को कुर्बान कर दिया। अब मम्मी ने मुझे अध्यक्ष बनाकर पार्टी को कुर्बान कर दिया। देशहित में इससे बड़ी कुर्बानी और क्या होगी।

मेरा तो यही कहना है कि भले ही मोदीजी हमें गाली देते हों, लेकिन अब मेरी लीडरशिप में हम गालियां नहीं देंगे। पिछली बार मैंने आलू की फैक्ट्री लगाने का सुझाव दिया था तो लोगों ने हमारा मजाक उड़ाया। हम अब मीठी-मीठी गोलियों की खेती करेंगे। मोदीजी को भी ये मीठी गोलियां खिलाएंगे और एक्सपोर्ट भी करेंगे। इससे हमारे किसानों को बहुत फायदा होगा।

भैया, इन चुनावों में प्रचार के दौरान मैं गुजरात में जगह-जगह घूमा हूं। वहां मोदीजी विकास का दावा करते हैं, लेकिन वहां तो सब गरीब हैं। मैं एक बंगले में गया तो वे मुझे थेपला, फाफड़े और खमन-ढोकले ही खिला पाए। गरीबी की इंतहा देखिए कि वे रोटी तक तक नहीं खा पाते हैं। इस बंगले में मैंने गरीबी ही गरीबी देखी। इस बंगले के मालिक के नौकर से लेकर माली तक, किसी के पास नैनो तक नहीं है। पता नहीं मोदीजी ने नैनों को क्यों कितनी जमीन दे दी।

गुजरात चुनावों के दौरान हम काफी मंदिरों में भी काफी घूमे। विरोधियों को हमारा मंदिर-मंदिर घूमना पसंद नहीं आया और यहां तक कह दिया कि हम हिंदू ही नहीं हैं। भैया, आगे से कोई हमारी पूरी पार्टी पर ही सवाल न उठा दे, इसके लिए अब हर कांग्रेसी के लिए जनेऊ पहनना अनिवार्य कर देंगे।

गुजरात में ही मैं एक जगह गया तो पता चला कि वहां उत्तरप्रदेश से लोग काम की तलाश में आते हैं। मैंने कुछ लोगों से पूछा कि उत्तरप्रदेश में कहां से हों तो वे बोले अमेठी से। सब लोगों को काम के लिए गुजरात आना पड़ता है। मैं पूछता हूं कि आखिर मोदीजी ने अमेठी में ऐसे व्यक्ति को सांसद क्यों बनने दिया, जो अपने क्षेत्र का ख्याल नहीं रख सकता। लेकिन भैया, ऐसा है कि हम सवाल पूछेंगे तो मोदीजी नाराज हो जाएंगे। इसलिए सवाल नहीं पूछेंगे। सवाल न पूछने की यह परंपरा हम कांग्रेस में भी जारी रखेंगे।

तो भैया, फिलहाल पीडी इतना ही भाषण लिख पाया है तो मैं भी इतना ही पढ़ूगा। जैसे ही वह भाषण पार्ट-2 तैयार कर लेगा, मैं आपके साथ फिर से आऊंगा।

(Courtesy : आइडिया और कंटेंट के एक हिस्से की उठाईगिरी fakingnews से भी की गई है। )

(Disclaimer : यह खबर कपोल कल्पित है। इसका मकसद केवल राजनीतिक व्यंग्य करना है, किसी की मानहानि करना नहीं।)