नंगई देखने के लिए केवल हमाम न ढूंढ़ें !

short-story , short satire, short-story in hindi, हिंदी में लघु कथाएं, हमाम में सभी नंगे, पागल की लघु कथा, लघु व्यंग्य कथा, राजनीतिक कटाक्ष

वह शायद एक पागल था। बेशक वह नंगा भी था, जैसा कि हर लघु कथा में होता है।

उसने कहा, तू नंगा क्यों है?
पागल ने कहा, मैं क्या नंगा, तू भी नंगा है, सारी दुनिया नंगी है।

तो वेरिफिकेशन के लिए उसने पहले अपने गिरहबान में झांककर देखा।
फिर बाजू वाले के गिरहबान में भी, डबल वेरिफिकेशन के लिए?
नहीं जी। इसलिए कि वहां कोई कपड़ा-लत्ता हो तो उसकी जुगाड़ लगा सके।

मॉरल ऑफ द स्टोरी : नंगई देखने के लिए हमेशा हमाम में मत उतरिए। अपने गिरहबान में भी झांक लीजिए।