हेल्थ के आधार पर होगा इंक्रीमेंट, एक कंपनी ने बनाई अनूठी पॉलिसी

By Jayjeet

मुंबई। एक जानी-मानी कारपोरेट कंपनी ने इस साल अपने एम्पलाइज के अप्राइजल के लिए नया तरीका अपनाया है। इसके लिए कंपनी एम्पलाइज के लिए हेल्थ चेक-अप कैम्प आयोजित कर रही है। जिसकी हेल्थ जितनी खराब मिलेगी, उसे उतना कमिटेड एम्पलाई मानकर अच्छा इंक्रीमेंट दिया जाएगा। जिन कर्मचारियों की हार्ट बीट, BP और शुगर लेवल नॉर्मल आएगा, उन्हें नौकरी से हटाने की कार्रवाई की जाएगी।

कंपनी के एक सीनियर HR ऑफिसर ने बताया, “इस साल के अप्राइजल के लिए हमने एक गाइडलाइन तैयार की है। हेल्थ चेकअप के नतीजों के आधार पर ही इस गाइइलाइन के अनुसार कर्मचारियों का इंक्रीमेंट किया जाएगा।” (गाइडलाइन के लिए वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें…)

भयंकर साइंटिफिक है यह गाइडलाइन :

इस HR ऑफिसर ने दावा किया कि हमने काफी रिसर्च के बाद यह गाइडलाइन तैयार की है। यह दूध का दूध और पानी का पानी करने वाली गाइडलाइन है। इससे यह बिल्कुल साफ हो जाएगा कि कौन-सा कर्मचारी कितना काम करता है और कौन कितना कामचोर है। जिस कर्मचारी के सभी बॉडी फंक्शन नॉर्मल पाए जाएंगे, यह माना जाएगा कि उसने काम करने में कोई टेंशन नहीं लिया। इस आधार पर उसे कामचोर मानकर कंपनी से हटाने की कार्रवाई की जाएगी।

अन्य कारपोरेट कंपनियां भी करेंगी फॉलो :

अन्य कई कारपोरेट और प्राइवेट कंपनियों ने भी इस गाइडलाइन की तारीफ करते हुए इस फॉलो करने का फैसला किया है। ऐसी ही एक कंपनी के एक प्रमोटर ने कहा – इस बात को लेकर हमेशा से विवाद होता रहता है कि किसने साल भर में काम किया और किसने नहीं किया। टारगेट के आंकड़ों में कई लोग गड़बड़ी कर देते हैं। लेकिन इस तरीके में तो शरीर ही सबकुछ बता देगा कि किसी कर्मचारी ने काम किया और किसने नहीं।

नीचे स्लाइड्स में देखें पूरी गाइडलाइन …

(Disclaimer : यह खबर कपोल-कल्पित है। इसका मकसद केवल स्वस्थ मनोरंजन और सिस्टम पर कटाक्ष करना है, किसी की मानहानि करना नहीं।)