कोरोना वैक्सीन की ब्लैक मार्केट वाली कीमत भी तय करेगी सरकार, गरीबों के हितों का रखा जाएगा ध्यान

corona vaccine , corona vaccine india launch, Corona vaccine india price, corona vaccine serum , कोरोना वैक्सीन, कोरोना वैक्सीन कीमत, भारत में कोरोना वैक्सीन

By Jayjeet

हिंदी सटायर डेस्क, नई दिल्ली। देश में कोरोना वैक्सीन के जल्दी ही लॉन्च होने की संभावना को देखते हुए सरकार ने वैक्सीन को लेकर कालाबाजारियों की मनमानियों पर अंकुश लगाने की तैयारी भी शुरू कर दी है। सरकार देश के प्रमुख कालाबाजारियों से चर्चा कर वैक्सीन की अलग-अलग श्रेणियों की कीमत फिक्स करेगी। देश के किसी भी कालाबाजार में उससे अधिक कीमत में वैक्सीन बेचे जाने को दंडनीय अपराध माना जाएगा।

हाल ही में कोरोनावायरस की दवा रेमडेसिवीर के कालाबाजार में 900 फीसदी तक ज्यादा दामों पर बेचे जाने की खबरों को देखते हुए सरकार वैक्सीन के मामले में कालाबाजारियों को खुली छूट देने के मूड में नहीं है। स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार इस बार समय रहते ही सरकार कालाबाजार में बिकने वाली वैक्सीन के दाम तय कर देगी, ताकि बाद में कालाबाजारिये मनमानी करके मुनाफाखोरी न कर सकें। जरूरत पड़ने पर संबंधित एक्ट में जरूरी संशोधन भी किए जाएंगे। वैक्सीन को निर्धारित ब्लैक मार्केट प्राइस से अधिक दाम में बेचे जाने को दंडनीय अपराध बनाने पर भी विचार किया जा रहा है।

अलग-अलग श्रेणियां निर्धारित की जाएंगी…
सीरम इंस्टीट्यूट ने अपने कोरोना वैक्सीन के एक डोज की कीमत 225 रुपए तय की है। सरकार इसी कीमत को आधार बनाकर कालाबाजार में बिकने वाली वैक्सीन की कीमत तय करेगी। तुरंत वैक्सीन चाहने वालों को यह 2000 रुपए में उपलब्ध होगी। एक साल बाद की कीमत 1000 रुपए और दो साल बाद की कीमत 500 रुपए तय की जाएगी। कीमत तय करते समय गरीब तबकों के हितों का भी पूरा ध्यान रखा जाएगा। गरीबों को तीन साल बाद केवल 25 रुपए के प्रीमियम पर यानी 250 रुपए में वैक्सीन उपलब्ध करवाना सभी कालाबाजारियों का सामाजिक दायित्व होगा।

(Disclaimer : यह सिस्टम पर व्यंग्य है, फेक न्यूज नहीं… )

ऐसे ही मजेदार व्यंग्य पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

—————————————————————————————————–

Google Translation (With modification)

Satire : Government will also decide the price of corona vaccine in black market, the interests of poor sections will also be taken care of.

Hindi Satire Desk, New Delhi. Seeing the possibility of the Corona vaccine being launched soon in the country, the government has also started preparing to curb the arbitrariness of the black marketers regarding the vaccine. The government will discuss with the major black marketers of the country and fix the price of different categories of vaccines in black market. The sale of a vaccine at a price higher than that in any black market in the country would be considered a punishable offense.

The government is not in a mood to give an open exemption to black marketers in the case of vaccine, given the recent news of the sale of Coronavirus drug Remdesvir at a market price of up to 900 per cent. According to sources in the Ministry of Health, this time the government will fix the price of the vaccine sold in the black market, so that later, the black marketers cannot arbitrarily make profits. Necessary amendments will also be made in the relevant Act, if required. The sale of the vaccine at a price higher than the prescribed black market price is also considered a punishable offense.

Different categories will be set …
The Serum Institute has fixed a dose of Corona vaccine at Rs 225. The government will decide the price of the vaccine sold in Kalabazar on the basis of this price. It will be available immediately to vaccine seekers for Rs 2000. After one year, the price will be fixed at Rs 1000 and after two years the price will be fixed at Rs 500. While fixing the price, the interests of poor sections will also be taken care of. It will be the social responsibility of all black marketers to provide the vaccine to the poor after three years at a premium of only 25 rupees i.e. Rs 250.