Video : जब मेहंदी वाले हाथों ने मंगलसूत्र उतारे हैं… हरिओम पंवार की मार्मिक कविता

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के मद्देनजर आज हरिओम पंवार की प्रसिद्ध कविता ‘मैं भारत का संविधान हूं, लाल किले से बोल रहा हूं…’ प्रासंगिक है। इसका एक हिस्सा ‘जब मेहंदी वाले हाथों ने मंगलसूत्र उतारे हैं…’ सुन सकते हैं….