Tuesday, January 25, 2022

JOKES & POETIC FUN

video

Radhe Memes : राधे मूवी देखने से क्या कोरोना भी मर सकता है?

Radhe Memes : राधे मूवी देखने से क्या कोरोना भी मर सकता है?
video

Jokes : सोनू सूद ने की ऑक्सीजन की सप्लाई तो क्या बोले मोदीजी और अमित शाह?

सोनू सूद ने की ऑक्सीजन की सप्लाई तो क्या बोले मोदीजी और अमित शाह?  
video

बंगाल में राहुल गांधी के जाए बगैर ही कांग्रेस का सूपड़ा साफ, जाते तो न जाने क्या होता!

बंगाल में कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली है। वहां राहुल गांधी के जाए बगैर ही कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया है। जाते तो न जाने क्या होता! इसी पर यह व्यंग्य वीडियो...
video

बंगाल में क्यों हारी बीजेपी? क्या है इसका राहुल कनेक्शन? अमित शाह ने बताई ऐसी Funny वजह

आज बंगाल में #BJP चुनाव हार गई। ममता की #TMC चुनाव जी गई। बीजेपी आखिर क्यों हारी? इस हार का क्या है राहुल गांधी कनेक्शन? देखिए यह फनी वीडियो

OFFBEAT

pathhole roads, satire, bad roads in india, सड़कों पर गड्‌ढे, भारत की सड़कें, खराब सड़कें, जयजीत, jayjeet

Satire : ग्राउंडवॉटर रिचार्ज करेंगी मप्र की ये सड़कें

By Jayjeet मेरे शहर में दो सड़कें हैं। वैसे तो कई सड़कें हैं, लेकिन आज हम इन दो सड़कों की बात ही करेंगे। एक ख़ास...
police march past, satire on police, पुलिस पर व्यंग्य, जयजीत अकलेचा

पुलिस ने कानून के लंबे हाथ तो ठाकुर को लौटा दिए…!

by Jayjeet बीते दिनों मप्र के एक शहर में 800 से भी अधिक पुलिसकर्मियों ने मार्चपास्ट किया। मकसद अपराधियों में ख़ौफ़ पैदा करना था।...
काबुलीवाला , रवींद्रनाथ टैगोर, अफगानिस्तान समस्या, तालिबान पर व्यंग्य, kabuliwala,taliban

काबुलीवाला के सवाल पर UN ने कहा – हमें भी बहुत चिंता है… आपके ड्रायफ्रूट्स की!

ए. जयजीत काबुलीवाला ... हां, वही काबुलीवाला। याद ही होगा सबको। गुरुदेव रवींद्रनाथ की कहानी का पात्र। पांच साल की बच्ची मिनी का अधेड़ दोस्त।...
jantantra, political satire, जनतंत्र, राजनीतिक व्यंग्य, जयजीत, jayjeet

Satire : एक डंडे के फासले से मिलता है सिस्टम

By Jayjeet और उस दिन तंत्र की जन से मुलाकात हो गई। पाठकों को लग सकता है कि भाई तंत्र और जन दोनों की मुलाकात...
truth, alien, सत्य से साक्षात्कार, राजनीतिक व्यंग्य

Satire : और अचानक सत्य से हो गई मुलाकात!

(आज अगर अचानक हमारी सत्य नामक जीव से मुलाकात हो जाए तो वह हमें दूर ग्रह का एलियन टाइप ही दिखेगा... सोचिए उस रिपोर्टर...
floods ,cloud, hindi satire, heavy rains jokes satire, शहरों में बाढ़ जोक्स, शहरों में बाढ़ व्यंग्य

राज कुंद्रा मामले से फुर्सत मिलते ही रिपोर्टर ने कर ली बादल के टुकड़े से खास बातचीत

By Jayjeet जैसे ही पानी से भरा बादल का टुकड़ा छत के ऊपर से गुजरा, रिपोर्टर ने हाथ के इशारे से उसे रोक लिया। बादल :...

MOST POPULAR

विराट कोहली की जाति , विराट कोहली की जाति क्या है?, विराट की कास्ट, caste of Virat Kohli, What is the caste of Virat Kohli?

विराट कोहली की जाति क्या है? गूगल से सबसे ज्यादा यही पूछा जाता है

गूगल पर विराट कोहली के बारे में की जाने वाली सर्चिंग में यह भी खूब पूछा जाता है कि विराट कोहली की जाति क्या है? गूगल ने ही इसका जवाब दिया है - विराट कोहली मूलत: खत्री जाति से हैं। खत्री मूल रूप से पंजाब से आते हैं। तो विराट कोहली हुए पंजाबी खत्री।

पढ़ें और देखें ये भी :

Video : गब्बर सिंह के मैनेजमेंट फंडे

Video : राहुल का फनी इंटरव्यू … ऐसा इंटरव्यू आज तक नहीं देखा होगा

जब 24 अकबर रोड पर एक खंडहर में भटकती मिली बूढ़ी कांग्रेस! पढ़ें यह खास इंटरव्यू …

video

कोई फर्क नहीं पड़ता (सुरेंद्र शर्मा)

कोई फर्क नहीं पड़ता इस देश में राजा रावण हो या राम, जनता तो बेचारी सीता है रावण राजा हुआ तो वनवास से चोरी चली जाएगी और राम राजा हुआ तो अग्नि परीक्षा के बाद फिर वनवास में भेज दी जाएगी। कोई फर्क नहीं पड़ता इस देश में राजा कौरव हो या पांडव, जनता तो बेचारी द्रौपदी है कौरव राजा हुए तो चीर हरण के काम आएगी और पांडव राजा हुए तो जुए में हार दी जाएगी। कोई फर्क नहीं पड़ता इस देश में राजा हिन्दू हो या मुसमान, जनता तो बेचारी लाश है, हिन्दू राजा हुआ तो जला दी जाएगी और मुसलमान राजा हुआ तो दफना दी जाएगी।
surendra sharma ki hasya kavita सुरेंद्र शर्मा

सुरेंद्र शर्मा की चार लाइना…

'पत्नी जी! मेरो इरादो बिल्कुल ही नेक है तू सैकड़ा में एक है।' वा बोली- 'बेवकूफ मन्ना बणाओ बाकी निन्याणबैं कूण-सी हैं या बताओ।' - सुरेंद्र शर्मा, हास्य कवि
सुरेंद्र शर्मा , हास्य कवि, surendra-sharma , फनी शायरी, funny shayari

राम बनने की प्रेरणा (सुरेंद्र शर्मा)

  • सुरेंद्र शर्मा
'पत्नी जी! मैं छोरा नैं राम बनने की प्रेरणा दे रियो ऊँ कैसो अच्छो काम कर रियो ऊँ!' वा बोली-'मैं जाणूँ हूँ थैं छोरा नैं राम क्यूँ बणाणा चाहो हो अइयां दसरथ बणकै तीन घरआली लाणा चाहो हो!'
यह भी पढ़ें ...
पति-पत्नी नोक-झोंक
     
video

चंदन चाचा के बाड़े में … नागपंचमी पर कविता

नागपंचमी (Nag panchami) से संबंधित कविता चंदन चाचा के बाड़े में ...( chandan chacha ke bade me)। इसे मप्र के जबलपुर के कवि नर्मदा प्रसाद खरे ने लिखा था। इसे सबसे पहले 1960 के दशक में कक्षा 4 की बाल भारती में शामिल किया गया था। हालांकि कुछ सोर्स इसके कवि सुधीर त्यागी बताते हैें। 
नर्मदा प्रसाद खरे
सूरज के आते भोर हुआ लाठी लेझिम का शोर हुआ यह नागपंचमी झम्मक-झम यह ढोल-ढमाका ढम्मक-ढम मल्लों की जब टोली निकली। यह चर्चा फैली गली-गली दंगल हो रहा अखाड़े में चंदन चाचा के बाड़े में।।
सुन समाचार दुनिया धाई, थी रेलपेल आवाजाई। यह पहलवान अम्बाले का, यह पहलवान पटियाले का। ये दोनों दूर विदेशों में, लड़ आए हैं परदेशों में। देखो ये ठठ के ठठ धाए अटपट चलते उद्भट आए थी भारी भीड़ अखाड़े में चंदन चाचा के बाड़े में।। वे गौर सलोने रंग लिये, अरमान विजय का संग लिये। कुछ हंसते से मुसकाते से, मूछों पर ताव जमाते से। जब मांसपेशियां बल खातीं, तन पर मछलियां उछल आतीं। थी भारी भीड़ अखाड़े में, चंदन चाचा के बाड़े में॥ यह कुश्ती एक अजब रंग की, यह कुश्ती एक गजब ढंग की। देखो देखो ये मचा शोर, ये उठा पटक ये लगा जोर। यह दांव लगाया जब डट कर, वह साफ बचा तिरछा कट कर। जब यहां लगी टंगड़ी अंटी, बज गई वहां घन-घन घंटी। भगदड़ सी मची अखाड़े में, चंदन चाचा के बाड़े में॥ वे भरी भुजाएं, भरे वक्ष वे दांव-पेंच में कुशल-दक्ष जब मांसपेशियां बल खातीं तन पर मछलियां उछल जातीं कुछ हंसते-से मुसकाते-से मस्ती का मान घटाते-से मूंछों पर ताव जमाते-से अलबेले भाव जगाते-से वे गौर, सलोने रंग लिये अरमान विजय का संग लिये दो उतरे मल्ल अखाड़े में चंदन चाचा के बाड़े में।। तालें ठोकीं, हुंकार उठी अजगर जैसी फुंकार उठी लिपटे भुज से भुज अचल-अटल दो बबर शेर जुट गए सबल बजता ज्यों ढोल-ढमाका था भिड़ता बांके से बांका था यों बल से बल था टकराता था लगता दांव, उखड़ जाता जब मारा कलाजंघ कस कर सब दंग कि वह निकला बच कर बगली उसने मारी डट कर वह साफ बचा तिरछा कट कर दंगल हो रहा अखाड़े में चंदन चाचा के बाड़े में।।
# nag-panchami-kavita #नागपंचमी की कविता
यह भी पढ़ें...

Satire : संसद ने अपने प्रांगण में लगी बापू की प्रतिमा से क्या कहा?

Satire : जब राजा के दर्पण ने की दिल की बात

हरिशंकर परसाई और शरद जोशी के व्यंग्य पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें