एक कपल ने म्यूजियम में सेल्फी लेने के बजाय एंटीक चीजें देखने का किया सनसनीखेज दावा

salarjung-museum , couple seeing paintings, selfie museum, selfie problem, selfie ki bimari, सेल्फी की बीमारी, सालारजंग म्यूजियम, हास्य व्यंग्य, जयजीत अकलेचा, jayjeet aklecha
इस कपल को इस बात की भी चिंता नहीं है कि 'विदाऊट सेल्फी' पर लोग क्या कहेंगे!

By Jayjeet

हिंदी सटायर डेस्क, हैदराबाद। यहां रविवार को एक कपल ने अजूबा दावा करके सनसनी फैला दी। यहां के सालारजंग म्यूजियम (salarjung-museum) से बाहर निकलते ही कपल ने कहा कि उसने म्यूजियम में कम से कम 10 एंटीक-हिस्टोरिकल चीजें और पेंटिंग्स वगैरह देखीं। कपल ने यह दावा तब किया, जबकि उनके हाथों में स्मार्टफोन भी था। इससे कुछ सेल्फीजले लोगों ने इस दावे की विश्वसनीयता पर ही सवालिया निशान खड़े कर दिए हैं।

म्यूजियम के सूत्रों के अनुसार कपल (पहचान छिपाने के लिए नाम का खुलासा नहीं किया जा रहा) पूरे 20 मिनट तक म्यूजियम के भीतर रहा और इस दौरान उसने एक भी सेल्फी नहीं ली (बाद में इसकी पुष्टि सीसीटीवी कैमरों के फुटेज से भी हो गई)। कपल ने कहा, “पिछले तीन साल से हम यहां आ रहे हैं। लेकिन सेल्फियों में इस बात का पता ही चला कि हम कब म्यूजियम में घुसे और कब बाहर निकल गए। हमारी यादों में केवल सेल्फी ही रह जाती थी। इसलिए इस बार हम पक्का ठान के अाए थे कि स्मार्टफोन को जेब से बाहर तक नहीं निकालेंगे। अब हमें कम से कम 10 चीजों की तो याद है।”

भरोसा नहीं, सोशल मीडिया पर छिड़ी चर्चा…

म्यूजियम में सेल्फी लेने में व्यस्त लोगों को कपल के दावे पर भरोसा ही नहीं हो रहा। इसको लेकर सोशल मीडिया पर भी चर्चा शुरू हो गई है। एक यूथ ने तत्काल इस कपल के साथ अपनी सेल्फी सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए लिखा, “अविश्वसनीय किंतु सत्य, एक कपल जिसने आज पर्यटक स्थल पर भी सेल्फी नहीं ली!” एक अन्य ने कपल के साथ अपनी सेल्फी पोस्ट करते हुए लिखा, ‘लगता है ये लोग एलियन हैं। नहीं तो, म्यूजियम में आए और वहां की एंटीक चीजें भी देखीं। सेल्फी नहीं ली। हाऊ इज दिस पॉसिबल!’

इस बीच, सरकार ने कपल के इस दावे की जांच के आदेश दे दिए हैं। अगर दावा सच पाया गया तो कपल पर भविष्य में किसी भी म्यूजियम या ऐसे किसी भी दर्शनीय स्थल पर प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा।

(Disclaimer : यह खबर कपोल-कल्पित है। इसका मकसद केवल स्वस्थ हास्य-व्यंग्य पैदा करना है, किसी की मानहानि करना नहीं।)