Satire : मोदी बम से लेकर सिद्धू रॉकेट तक, बाज़ार में ऐसे हैं नेता पटाखे

मोदी बम, राहुल बम, राजनीतिक व्यंग्य

By Jayjeet

अब मार्केट में देवी-देवताओं के नाम वाले बम और पटाखे तो नहीं हैं, लेकिन नेताओं के नाम वाले पटाखों की भरमार हैं। सुप्रीम कोर्ट अपनी गाइडलाइन में कह चुका है कि पटाखे पॉल्यूशन फ्री होने चाहिए। लेकिन इन नेता ब्रांडेड पटाखों पर ये गाइडलाइन लागू नहीं होती है। इसलिए यूजर्स इनका इस्तेमाल सोच-विचारकर ही करें।

मोदी बम : पिछले कई सालों से यह बम सबसे ज्यादा बिकने वाला बम रहा है। इसकी सबसे बड़ी खासियत तो यही है कि यह न केवल जोरदार आवाज के साथ फटता है, बल्कि फटने के बाद भी लगातार आवाज करते रहता है। यह उस समय भी आवाज करता है, जब इसकी जरूरत नहीं होती है।

राहुल बम : यह बहुत ही मजेदार बम है। जब इसे जलाएंगे तब हो सकता है यह नहीं फटे। इसलिए यह अक्सर फुस्सी बम ही साबित होता है। लेकिन सावधान रहें। यह अचानक बगैर जलाए भी कभी भी फट सकता है। ऐसा कई बार हुआ है कि आप हाथ में राहुल बल को रखकर घूम रहे हो और अचानक फटकर पंजे को जख्मी कर गया। वैसे यह ज्यादातर ट्विटर पर वर्चुअल ही फटता है।

सिद्धू रॉकेट : ऐसा कई बार होता है कि आपने कोई रॉकेट जलाया और वह अनगाइडेड मिसाइल की तरह कहीं भी घुस गया। कभी-कभार तो जलाने वाली की लुंगी तक में भी घुसने के मामले सामने आए हैं। सिद्धू रॉकेट के साथ भी ऐसे खतरे बने हुए हैं। इसीलिए सिद्धू ब्रांड के रॉकेट के ऊपर वैधानिक चेतावनी लिखी हुई है : यह रॉकेट ऊपर जाने के बजाय आपके नीचे भी जा सकता है। अपनी रिस्क पर ही छोड़ें।

केजरी तड़तड़ी : यह बेहद मजेदार और एंटरटेनिंग है। पिट-पिट करके जलती है। पहले तो यह जलते-जलते ‘मोदी-मोदी’ साउंड करती थी। दिल्ली में इसे काफी पसंद किया जाता है। केजरी तड़तड़ी के निर्माताओं को उम्मीद है कि पंजाब से और थोड़ी बहुत गोवा से भी इसकी अच्छी-खासी डिमांड आ सकती है।

चन्नी टिकली : इन दिनों रुपए-पैसों में चवन्नी और पटाखों में टिकलियां मिलनी बंद हो गई हैं। लेकिन अगर बात नेताओं की हो तो वहां चवन्नियों और टिकलियों दोनों की भरमार होती है। राजनीति के पटाखा बाज़ार में जो नई टिकली आई है, उसका ब्रैंड नाम है ‘चन्नी टिकली’। वैसे तो टिकलियां वाकई टिकलियां ही होती हैं, लेकिन इन दिनों पंजाब में यह बड़े-बड़े बमों के साथ होड़ कर रही है।

मनमोहन बम : कुछ बम साइलेंट होते हैं। फटने के बाद भी आवाज नहीं करते। मजेदार बात यह है कि यह बम धुआं भी नहीं करता। इसलिए यह बाकी बमों की तुलना में थोड़ा कम पॉल्यूशन करता है। हालांकि इसका मतलब यह भी नहीं है कि इसका असर नहीं होता। फटने के बाद इसके कंपन तो दूर-दूर तक महसूस किए जाते हैं। वैसे राजनीति के पटाखा बाजार में ऐसे बमों का चलन अब कम हो चला है।